Home Header News यूपी के विकास में योगदान दे रही है ट्रांसजेंडर कम्युनिटी

यूपी के विकास में योगदान दे रही है ट्रांसजेंडर कम्युनिटी

681
0
SHARE
समाज की मुख्यधारा से जुड़कर यूपी के विकास में योगदान दे रही है ट्रांसजेंडर कम्युनिटी
 
योगी सरकार उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh Yogi Government) में समाज के हर तबके तक सरकारी योजनाओं का लाभ पहुंचाने में जुटी है। जिसका प्रभाव ट्रांसजेंडर कम्युनिटी में भी देखने को मिल रहा है। ट्रांसजेंडर कम्युनिटी (Transgender Community) के लोगों को तमाम सरकारी योजनाओं के माध्यम से रोजगार के अवसर मिल रहे हैं और वो अब परंपरागत आय के साधन छोड़कर नए बिजनेस से जुड़कर उत्तर प्रदेश की प्रगति में अपना योगदान दे रहे हैं। उत्तर प्रदेश में आयोजित भारत के पहले ट्रांसजेंडर साहित्यिक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम 2024 में ट्रांसजेंडर कम्युनिटी से जुड़े प्रमुख लोगों ने भी इसका उल्लेख किया। इस अवसर पर ट्रांसजेंडर पहचान प्रमाण पत्र और उसके लाभ पर भी चर्चा की गई। सामाजिक न्याय अधिकारिता मंत्रालय द्वारा संचालित स्माइल योजना के अंतर्गत मिलने वाले लाभ, गरिमा गृह, आयुष्मान प्लस कार्ड, छात्रवृत्ति इत्यादि का लाभ लेने की प्रक्रिया पर भी विमर्श किया गया।

ट्रांसजेंडर कम्युनिटी के संवेदनशीलता और सम्मान के साथ मौलिक अधिकारों पर हुई चर्चा

कार्यक्रम के दौरान महामंडलेश्वर लक्ष्मी नारायण त्रिपाठी ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार किन्नर समुदाय (Uttar Pradesh Government on Transgender Community) को मुख्यधारा में लाने के लिए अच्छा काम कर रही है। विभिन्न योजनाओं के माध्यम से उन्हें रोजगार के अवसर मिल रहे हैं और वो अपने परंपरागत आय के साधन छोड़ कर नए व्यवसाय अपना रहे हैं और समाज और देश की प्रगति में अपना योगदान दे रहे हैं। वहीं राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) समाज कल्याण, असीम अरुण ने कहा कि योगी सरकार समाज के हर व्यक्ति को समान रूप से विकास के अवसर प्रदान कर रही है। इसी कड़ी में ट्रांसजेंडर साहित्यिक एवं सांस्कृतिक समारोह आयोजित किया गया है। हमारा प्रयास है कि ट्रांसजेंडर समुदाय को समाज में सम्मानजनक स्थान मिले एवं समाज की मुख्यधारा में आकर वह अपने एवं देश के विकास में अपनी भूमिका निभा सकें।

ट्रांसजेंडर समुदाय (LGBTQIA+) को समाज में मिल रहा समान अधिकार

कार्यक्रम के दौरान  साहित्य, कला एवं संगीत के माध्यम से ट्रांसजेंडर समुदाय (LGBTQ News) को मुख्यधारा में लाने की आवश्यकता और प्रयासों पर भी परिचर्चा हुई। इसके अलावा कविता पाठ, नुक्कड़ नाटक, नृत्य नाटिका,रैंप वॉक, भावाभिव्यक्ति द्वारा ट्रांसजेंडर समुदाय ने अपने विचार रखते हुए कहा कि उन्हें भी समाज में समान अधिकार है और समाज को बदलने को हम भी अपना योगदान दे रहे हैं।