Home हिन्दी फ़ोरम

हिन्दी फ़ोरम

स्किल और एजुकेशन पर होगा सबसे ज्यादा सीएसआर खर्च

देश का युवा वर्ग रोजगार के लिए तड़प रहा है। रोजगार के लिए धरना प्रदर्शन कर रहा है। रोजगार के लिए देश का युवा सरकारों से लड़ रहा है। सरकारें भी युवाओं को रिझाने में लगी है। रोजगार को लेकर तमाम वायदे किये जा रहे है। लुभावने आकड़े पेश किये जा रहे है। लाख...

सीएसआर में आगे पंजाब, पिछले 5 सालों में 570 करोड़ का निवेश  

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पंजाब (PM Modi in Punjab) दौरे के बाद केंद्र सरकार और पंजाब सरकार में जंग छिड़ी है। एक दूसरे पर छींटाकशी कर रहे है। आरोप प्रत्यारोप लगाए जा रहे है, केंद्र सरकार पंजाब सरकार पर लगातार सवाल खड़े कर रही है। लेकिन इस बीच केंद्र सरकार ने पंजाब सरकार की...

टीबी के ख़ात्मे के लिए इंडियन ऑयल करेगी सीएसआर खर्च

उत्तर प्रदेश और पंजाब में चुनावी सरगर्मियां तेज है। इस बीच सरकारी कंपनी इंडियन ऑयल ने भी बड़ा फैसला लिया है। चुनावी राज्यों में इंडियन ऑयल ने बड़े पैमाने पर सीएसआर खर्च करने का निर्णय लिया है। इंडियन ऑयल ने उत्तर प्रदेश के 75 जिले और पंजाब में 23 जिले में शहर समन्वय समितियों,...

भायखला रेलवे अस्पताल को मिला 4.44 करोड़ का सीएसआर

कोरोना के तीसरी लहर की आहट के बीच सेंट्रल रेलवे से अच्छी ख़बर आ रही है। रेलवे अस्पताल भायखला को बड़े पैमाने पर कोविड और गैर-कोविड  स्वास्थ्य देखभाल के लिए मेडिकल उपकरणों और उनकी खरीद के लिए सीएसआर (Corporate Social Responsibility) मददगार साबित हुआ है। दरअसल साल 2021 के दौरान, मध्य रेल महिला कल्याण...

सीएसआर से बनेगा कचरे से कोयला, पीएम रखेंगे आधारशिला

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय क्षेत्र वाराणसी यूं तो धर्म और संस्कृति के लिए विख्यात है। पुरातन काया के साथ आधुनिक विकास में मॉडल बन रही काशी के लिए खुशखबरी है। बनारस शहर अब देश को कूड़े-कचरे से कोयला बनाना भी सिखाएगा। एनटीपीसी के सहयोग से नगर निगम रमना में हर दिन 200 टन...

JSW का तोहफ़ा, EV के लिए मिलेगा 3 लाख का इंसेंटिव

JSW देश का पहला ऐसा कॉरपोरेट हाउस है जो अपने ही कर्मचारियों के लिए इलेक्ट्रिक व्हीकल पॉलिसी लेकर आया है। Electric Vehicle खरीदने के लिए जेएसडब्ल्यू इलेक्ट्रिक कार-बाइक खरीदने के लिए अपने हर कर्मचारियों को 3 लाख रुपए बतौर इंसेंटिव देने का फैसला किया है। JSW ग्रुप ने अपने कर्मचारियों के लिए 'JSW Green...

जागो ग्राहक जागो, अपने अधिकारों को पहचानो

हम में से हर व्यक्ति किसी न किसी रूप में उपभोक्ता है, ग्राहक है। हम हर दिन कुछ न कुछ खरीदते है, कंज्यूम करते है। आज उपभोक्ता जमाखोरी, कालाबाजारी, मिलावट, अधिक दाम, कम नाप-तौल जैसी समस्याओं से घिरा है। उपभोक्ता क्योंकि संगठित नहीं हैं इसलिए हर जगह ठगा जाता है। इसलिए उपभोक्ता को जागना...
Green Talks- Social Entrepreneurs with Gautam Adani & Priti Adani

अदाणी ने सामाजिक उद्यम के लिए पुरस्कार की घोषणा की

अदाणी ग्रुप (Adani Group) अदाणी सामाजिक उद्यम पुरस्कार की स्थापना करेगा जो सामाजिक क्षेत्र में भारत का सबसे बड़ा वार्षिक पुरस्कार होगा। अदाणी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अदाणी ने पहले ग्रीन टॉक्स में यह घोषणा की। ग्रीन टॉक्स अदाणी टॉक सीरीज इनिशिएटिव है जो सोशल एंटरप्राइज को उनके विचारों को प्रस्तुत करने और उनके...

इन सरकारी योजनाओं से किसान हो रहे है संपन्न

भारत की लगभग 60 फीसदी आबादी प्रत्यक्ष या फिर अप्रत्यक्ष रूप से किसानी पर आश्रित है | इसके साथ ही भारतीय अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ बनाने में भी कृषि का अहम योगदान है। किसानी अर्थव्यवस्था की रीढ़ है और 5 ट्रिलियन इकॉनमी बनाने में कृषि का सबसे बड़ा योगदान है। देश की अर्थव्यवस्था को और...

करप्शन से हैं परेशान? ऐसे करें शिकायत

चाय पानी, सुविधा शुल्क, मिठाई, टेबल के निचे ये कुछ ऐसे शब्द है जिसे हम अक्सर सुनते है। खासकर सरकारी दफ्तर में जाते वक़्त ये शब्द आपके कानों तक पहुंचकर आपकी जेब काटने लगती है। इन सभी शब्दों के भले अलग-अलग मायने हो लेकिन मतलब सिर्फ एक होता है, करप्शन यानी भ्रष्टाचार। करप्शन एक...

सीएसआर व सरकार की ये योजनाएं कर रही है एड्स का ख़ात्मा

एड्स को गंभीर बीमारी माना जाता है। एक समय था जब एड्स के नाम से ही लोग घबराते थे और सरकारी अस्पतालों में टेस्ट की सुविधा व इलाज का अभाव था। और निजी अस्पतालों में आम लोगों की पहुंच ही नहीं थी। इस कारण यह बीमारी फैलने के साथ लोगों की मौत भी हो...

महाराष्ट्र सरकार के कार्यशैली पर सवाल! कोविड रिलीफ के 75 फीसदी रकम को नहीं किया खर्च

महाराष्ट्र सरकार पर विपक्ष हमेशा से निष्क्रियता का आरोप लगाता रहता है। ये खबर महाराष्ट्र सरकार की कार्यशैली पर सवाल खड़ा करती है। सरकारों की यही दिक्क्त होती है कि विकास के कामों की जब डिमांड जनता करती है तो सरकार फंड और पैसों के कमी का रोना रोती है। लेकिन जब पैसे आते...

हिंदी मंच

EDITOR'S PICK