Home Authors Posts by Rahuldeo Sharma

Rahuldeo Sharma

295 POSTS 0 COMMENTS

सीएसआर से बने बारात घर में गरीब बेटियों की होगी शादियां

बड़े बड़े मैरेज हॉल में बड़ी शानो शौकत के साथ तो अमीर बेटियों की शादियां तो हो जाती है लेकिन एक गरीब घर की बेटी के लिए मैरेज हाल में शादी एक सपना होता है। अब गांव की गरीब बेटियों व अन्य की शादी गांव के बारात घर में होगी। गांव व आसपास के...

सीएसआर से मिले मेडिकल उपकरणों का हो सही रखरखाव

आपदा में अवसर तलाशने की बात देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने क्या कही कोरोना आपदा में हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को और बेहतर बनाने का एक अवसर मिल गया। साल 2020 के पहले हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर पर इतना जोर नहीं दिया जाता है। देश की स्वास्थ्य सेवाएं ठीक नहीं थी लेकिन कोरोना महामारी ने ना सिर्फ...

सीएसआर पर जोर देगा मोदी का नया मंत्रिमंडल

केंद्रीय मंत्रिमंडल में बदलाव के बाद सभी मंत्रियों ने अपने-अपने मंत्रालयों का कार्यभार संभाल लिया और अपने मंत्रालयों का रिव्यु भी करने लगे है। जैसे कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी मंत्रियों को पारदर्शी कार्य और हर कार्य जनता के लिए समर्पित हो ऐसे कड़े निर्देश भी दिए है लिहाजा हर मंत्री...

सीएसआर से मिलेगी कोरोना पीड़ित अनाथ बच्चों को सहायता

कोरोना काल में कईयों ने अपने को खोया तो कई मामले ऐसे भी देखने को मिले कि परिवार का परिवार उजड़ गया। घर में रोने के लिए कोई नहीं बचा। कोरोना महामारी में बच्चों का भी हाल बेहाल रहा। अभिभावक कोरोना की चपेट में आ गए तो बच्चे अनाथ हो गए। अब इन्हीं अनाथ...

वैक्सीनेशन फ्रॉड से कैसे बचें, कैसे करें असली-नकली वैक्सीन की पहचान

कोरोना की महामारी में देश ने ऐसी भी परिस्थितियां देखी कि सरकार वैक्सीन लगवाने को लेकर लगातार अपील करती रही लेकिन लोग अफवाहों के समंदर में गोते लगाते रहे। इस बीच कोरोना की दूसरी लहर ने वैक्सीन के सारे भ्र्म तोड़ दिए और लोग कोरोना से जान बचाने के लिए बढ़चढ़ कर वैक्सीनेशन ड्राइव...

कोरोना में कमी, सीएसआर से हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर सुधार में तेजी

कोरोना के मामलों में भले कमी आयी हो लेकिन स्वास्थ्य संसाधनों में सीएसआर के निवेश में कमी बिलकुल नहीं आयी है। कोरोना का प्रकोप कम हुआ है, पॉजिटिव केसेस में कमी देखने को मिल रही है। लॉकडाउन राज्यों से भी अच्छी ख़बरें आ रही है। अनलॉक के प्रोसेस शुरू हो चुके है। पाबंदियां हटाई...

कॉरपोरेट्स की टीकाकरण पहल से लाभान्वित हो रहे है कर्मचारी

कोरोना टीकाकरण के लेकर तमाम अफवाहों और भ्रांतियों के बीच भारत में दो तस्वीरें देखने को मिल रही है, ग्रामीण भारत में वैक्सीन की भ्रांतियों की वजह से लोग वैक्सीन लगवा नहीं रहे है वहीं शहरी भागों में लोगों में वैक्सीन लगवाने के लिए जागरूकता है और लोग लगवाना भी चाहते है लेकिन उन्हें...

सीएसआर को प्रभावी बनाने पर हो ज्यादा जोर – अनुराग ठाकुर

सीएसआर कानून की मदद से समाज में सकारात्मक बदलाव देखने को मिल रहा है। कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी कानून को और भी ज्यादा प्रभावशाली बनाने के लिए वित्त मंत्रालय ने हाल फिलहाल में कई संशोधन भी किये है। केंद्र सरकार चाहती है कि सीएसआर फंड का फायदा समाज के आखिरी जरूरतमंद तक पहुंचे। यही कारण...

बदहाल है साइकिल ट्रैक, ऐसे में कैसे होगी साइकिलिंग?

3 जून को हम सब विश्व साइकिलिंग दिवस मनाएंगे। फिर से साइकिलिंग के फायदे समझाएं जायेंगे, साइकिलिंग से हम सब प्रेरित हों इसलिए सरकारी नीतियां बनाई जाएंगी। यहां तक कि बड़े बड़े आईएएस और आईपीएस अधिकारी पूरे स्टाइल में Cycle चलाते हुए अपने अपने दफ्तर पहुंचेंगे ताकि उनके जूनियर साइकिलिंग के लिए मोटीवेट हो...

एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट में पिरामल फाउंडेशन करेगा 100 करोड़ का निवेश

कोरोना के आपातकाल से एक और राहत की ख़बर आयी है, ये ख़बर पिरामल फाउंडेशन की तरफ से आयी है। पिरामल एंटरप्राइजेज लिमिटेड की परोपकारी संस्था पिरामल फाउंडेशन (पीईएल) ने कोरोना की दूसरी लहर के विनाशकारी प्रभाव को दूर करने के लिए महत्वपूर्ण पहल की है। देश की थिंक टैंक यानी निति आयोग (Niti...

कोरोना लड़ाई में विकसित जिलों से आगे है एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट

कोरोना महामारी ने हर एक जिंदगी को प्रभावित किया है, कोई अपनों को खो दिया तो किसी की नौकरी चली गयी, कोई खाने के लिए मोहताज़ हो गया तो कोई दुश्वारियों से घिर गया। पहली लहर से कही ज्यादा खतरनाक दूसरी लहर है। क्या बुजुर्ग, क्या नौजवान, क्या बच्चें हर उम्र के लोग कोरोना...

कोरोना से जान गंवाने वाले कर्मचारियों के परिवार वालों को राहत

जहां कोरोना एक तरफ कहर बनकर टूटा है, जहां हर तरफ मायूसी छायी है, मौतों का आकड़ा बढ़ रहा है, ज्यादातर लोग कोरोना से प्रभावित हो रहे है। लोगों की नौकरियां जा रही हैं और साथ ही घर में कमाने वाले व्यक्ति की मौत होने की वजह से परिवार के ऊपर दुखों का पहाड़...

हिंदी मंच

EDITOR'S PICK