Home Header News सीएम गए दावोस, महाराष्ट्र में लाएंगे 3 लाख करोड़ का निवेश

सीएम गए दावोस, महाराष्ट्र में लाएंगे 3 लाख करोड़ का निवेश

829
0
SHARE
सीएम एकनाथ शिंदे गए दावोस, महाराष्ट्र में लाएंगे तीन लाख दस हजार करोड़ का निवेश
 
स्विट्जरलैंड के दावोस (Davos) में होने वाली विश्व आर्थिक परिषद (World Economic Forum) की बैठक के लिए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे (Maharashtra CM Eknath Shinde) एक प्रतिनिधिमंडल के साथ मंगलवार 16 तारीख को दावोस पहुंच रहे हैं। वर्ल्ड इकनोमिक फोरम की मुख्य बैठक में सीएम एकनाथ शिंदे Challenges in the Civil Sector, Innovative Initiatives and Sustainable Development विषय पर अपने विचार रखेंगे। 15 से 19 जनवरी तक विश्व आर्थिक परिषद दावोस में आयोजित की गई है। जहां पहली बार रिकॉर्ड तीन लाख दस हजार करोड़ रुपये के एमओयू पर हस्ताक्षर होंगे।

MIDC है महाराष्ट्र में निवेश की नोडल एजेंसी

World Economic Forum में मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के साथ उद्योग मंत्री उदय सामंत और उद्योग विभाग, एमआईडीसी (MIDC – Maharashtra Industrial Development Corporation), मुख्यमंत्री सचिवालय के वरिष्ठ अधिकारियों सहित दस सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल मुंबई से रवाना हुआ है। एमएमआरडीए (MMRDA) और महाप्रित (Mahatma Phule Renewable Energy and Infrastructure Technology Limited) के 8 अधिकारी स्वतंत्र रूप से भाग ले रहे हैं और इन सभी को केंद्र सरकार की मंजूरी मिल गई है। यह दूसरी बार है कि मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में महाराष्ट्र का प्रतिनिधि मंडल दावोस में भाग ले रहा है और पिछले साल इस सम्मेलन में 1 लाख 37 हजार करोड़ के निवेश समझौतों पर हस्ताक्षर किये गये थे। उनमें से 76 प्रतिशत अनुबंध अमल में आ चुके हैं।

महाराष्ट्र में निवेश को लेकर करेंगे प्रभावी ब्रांडिंग

इस सम्मेलन के लिए इस साल भी भारत के पवेलियन के पास महाराष्ट्र का एक अत्याधुनिक पैवेलियन बनाया गया है और यहां मुख्यमंत्री समझौता करारों पर हस्ताक्षर करेंगे और मुख्यमंत्री प्रमुख विदेशी उद्योगों के प्रमुखों के साथ चर्चा भी करेंगे। इसके लिए इस पवेलियन में मीटिंग रूम बनाए गए हैं और यहां पर महाराष्ट्र की प्रगति के बारे में जानकारी देने वाली एक ऑडियो-विजुअल प्रदर्शनी भी होगी।

महाराष्ट्र में निवेश को लेकर मुख्यमंत्री का दावोस दौरा, 3 दिन का ये है प्लान

इस पवेलियन का उद्घाटन 16 तारीख को मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे करेंगे। ओमान के उद्योग मंत्री, सऊदी के वित्त मंत्री, दक्षिण अफ्रीका के ऊर्जा मंत्री, दक्षिण कोरिया के ग्योगी प्रांत के गवर्नर और डीपी वर्ल्ड (DP World), लुईस ड्रेफस (Louis Dreyfus ) वित्कोविज एटोमिका (Witkowitz Atomica), और इन कंपनियों के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ मुख्यमंत्री चर्चा भी करेंगे।
17 तारीख को Adani Group Gautam Adani गौतम अडानी मुख्यमंत्री से मुलाकात करेंगे। उसके बाद मुख्य कार्यक्रम में मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे कांग्रेस सेंटर में इनोवेशन और सस्टेनेबल डेवलपमेंट पर अपना भाषण देंगे। इसके बाद मुख्यमंत्री माइकल एडब्ल्यूएस (Michael aws), प्रिंस ऑफ लिकटेंस्टीन  (Liechtenstein), हिताची कंपनी के एमडी, कार्ल्सबर्ग ग्रुप (Carlsberg Group), डसॉल्ट सिस्टम्स  (Dassault Systems), वोल्वो कार्स के प्रमुख अधिकारियों के साथ बैठक में भाग लेंगे। भारत में स्विस राजदूत से भी चर्चा की जाएगी, इसमें  8 कंपनियों के बीच एक एमओयू पर हस्ताक्षर होंगे।
सीआईआई (CII) ने 18 तारीख को एक Round Table Conference का आयोजन किया है जिसमें केंद्रीय मंत्री शामिल होंगे। कॅपजेमिनी (Capgemini), एपी मोलेर मर्स्क (AP Moller Maersk), बॉल कॉर्पोरेशन (Ball Corporation) के प्रमुखों के साथ भी बैठकें भी नियोजित हैं।

तीन लाख दस हजार करोड़ के होंगे समझौते

World Economic Forum के जरिए करीब तीन लाख दस हजार करोड़ का निवेश होगा। स्टील (Steel), सूचना प्रौद्योगिकी (Information Technology) से संबंधित उद्योग, परमाणु ऊर्जा (Nuclear Enegry) और नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों (Renewable Energy) – ग्रीन हाइड्रोजन (Green Hydrogen), हीरे और आभूषण, डेटा सेंटर (Data Center), लॉजिस्टिक्स, ऑटोमोटिव के साथ-साथ कृषि-औद्योगिक, कृषि, वन उपज जैसे मूल्य वर्धित उद्योगों को लाने के लिए प्रयास करने के निर्देश मुख्यमंत्री ने दिया है। गौतलब है कि इस फोरम में 20 MoU किए जाएंगे। इनमें निप्पॉन आर सेलर मित्तल, इंडिया ज्वेलरी पार्क, कंट्रोल एस, आईनॉक्स, ए बी ब्रीवरी, जिंदल ग्रुप हुंदाई और अन्य कंपनियां शामिल हैं। ये उद्योग न केवल मुंबई और पुणे में बल्कि छत्रपति संभाजीनगर, गढ़चिरोली, नागपुर, चंद्रपुर, जालना, रायगढ़ जैसे दूर-दराज के स्थानों में भी आएंगे।