Home हिन्दी फ़ोरम CSR: मेजर कौस्तुभ राणे को आखिरी सैल्यूट

CSR: मेजर कौस्तुभ राणे को आखिरी सैल्यूट

175
0
SHARE
 
   

पंचतत्व में विलीन हो गए मेजर कौस्तुभ राणे, मेजर कौस्तुभ राणे का नाम इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया, मेजर कौस्तुभ राणे ने अदम्य और आसाधारण साहस का परिचय दिखाते हुए मंगलवार को शहीद हो गए थे, आतंकियों से लोहा लेते हुए सेना में मेजर कौस्तुभ राणे ने ना सिर्फ घुसपैठ को रोका बल्कि 2 आतंवादियों को ढेर भी कर दिया। मेजर कौस्तुभ राणे का ये साहस देश हमेशा के लिये याद रखेगा। भले ही मेजर राणे अपने माँ बाप के इकलौते बेटे थे लेकिन पूरे परिवार को अपने लाल पर गर्व है। परिवार वालों का कहना है कि अगर उनका दूसरा बेटा होता तो अभी भी बड़े फक्र से सेना में भेजते।

जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में शहीद मेजर कौस्तुभ राणे का पार्थिव शरीर गुरुवार को मुंबई से सटे मीरा रोड में उनके घर पहुंचा। इस दौरान परिवार के सदस्यों और दोस्तों सहित हजारों की भीड़ मौजूद थी। मेजर कौस्तुभ राणे मंगलवार को बांदीपोरा जिले में एल ओ सी के पास आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हुए चार जवानों में शामिल थे।

राष्ट्रीय ध्वज में लिपटे ताबूत में उनके पार्थिव शरीर को बुधवार शाम मुंबई में परिवार के सदस्यों, सेना और अन्य अधिकारियों की मौजूदगी में सौंपा गया। गुरुवार सुबह फूलों से पटे ताबूत को सेना के ट्रक से उनके घर लाया गया, जहां पूर्ण सैन्य सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। मेजर कौस्तुभ राणे के घर से श्मशान घाट तक हज़ारों की भीड़ अंतिम दर्शन के लिए रास्ते पर मौजूद रही। इस दौरान मुंबई की सड़कों पर बेहद भावुक नजारा दिखा। यहां जिस रास्ते से शहीद की अंतिम यात्रा निकलेगी वहां लोग फूल बिछाकर अपने मेजर कौस्तुभ को अपना आखिरी सलामी दे रहे थे। हाथों में तिरंगा झंडा लिए लोग ‘मेजर कौस्तुभ राणे अमर रहें’ और ‘भारत माता की जय’ के नारे लगा रहे थे।

कौस्तुभ राणे के परिवार में उनके माता-पिता प्रकाश और ज्योति राणे, बहन कश्यपी, पत्नी कनिका और ढाई साल का बेटा अगस्तय है।अपने माता-पिता के इकलौते बेटे राणे ने पुणे से सैन्य प्रशिक्षण पूरा कर सेना में शामिल होने का अपना बचपन के सपना पूरा किया था। इन सब के बीच सबसे बड़ा सवाल कि आखिरकार कब तक हमारे जवान इसी तरह अपने प्राणों की आहुति देते रहेंगे। कब देश की सरकार कोई ठोस निर्णय लेगी ताकि पाकिस्तान को सबक सिखाया जा सकेगा। कब तक नरेंद्र मोदी अपनी राजनैतिक जिम्मेदारी से भागते रहेंगे।