Home Header News मध्य प्रदेश – सीएसआर से इंदौर की आंगनवाडियां बनेंगी स्मार्ट

मध्य प्रदेश – सीएसआर से इंदौर की आंगनवाडियां बनेंगी स्मार्ट

568
0
SHARE
 
मध्य प्रदेश का इंदौर अब सिर्फ अपने साफ़-सफाई के लिए नहीं बल्कि हाई टेक और स्मार्ट आंगनवाड़ियों के लिए भी जाना जायेगा। Madhya Pradesh की महिला एवं बाल विकास विभाग के अंतर्गत गरीब और जरूरतमंद बच्चों का शारीरिक एवं मानसिक विकास कर रही आंगनवाड़ियों को अब High Tech and Smart Anganvadi बनाया जाएगा। Indore City की एक निजी कंपनी ने दस आंगनवाड़ियों को गोद लेकर एक करोड़ के सीएसआर फंड से न केवल इन्हें हाईटेक बनाने की जिम्मेदारी उठायी है, बल्कि इनकी सुंदरता व रखरखाव पर भी ध्यान देगी। आंगनवाड़ियों को अब कॉरपोरेट कंपनियां गोद लेकर न केवल हाईटेक बनाएगी, बल्कि शहर के पिछड़े क्षेत्रों के बच्चों को पोषण और शिक्षा भी उपलब्ध कराएगी।

10 लाख के सीएसआर से इंदौर के आंगनबाड़ी को बनाया जाएगा अत्याधुनिक

महिला एवं बाल विकास के अधिकारियों के अनुसार युनाइटेड वे (United Way) NGO स्वास्थ्य, स्वच्छता, पर्यावरण, आजीविका, विकलांगता जैसे मुद्दों को लेकर सीएसआर फंड (Corporate Social Responsibility) के माध्यम से काम करती है। अब ये कंपनी Anganvadi को गोद लेकर उन्हें विकसित बनाएगी। NGO United Way ने Indore की दस आंगनवाड़ियों को गोद लिया और यहां सभी जरूरी संसाधन उपलब्ध कराने का बीड़ा उठाया है। हम आपको बता दें कि Madhya Pradesh Government ने Corporate Houses in Madhya Pradesh से अपील की थी कि कॉरपोरेट्स आगे आकर आंगनवाड़ियों को गोद लेने की पहल करें, जिसके बाद कुछ कंपनियां आगे आने लगी। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने भी हाथठेला चलाकर आंगनवाड़ियों के लिए सामग्री, खिलौने व लगभग आठ करोड़ की धनराशि जमा की थी, जिनसे कई आंगनवाडिय़ों में सुविधाएं जुटाई गई हैं।

Indore के शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में सीएसआर का किया जाएगा इस्तेमाल

The CSR Journal से ख़ास बातचीत करते हुए महिला एवं बाल विकास अधिकारी रामनिवास भदोरिया ने बताया कि शहरी क्षेत्र की एक व तीन नंबर परियोजना में स्थित आंगनवाड़ी ग्रामीण एक परियोजना की आंगनवाडिय़ों को चिन्हीत किया गया है। हालांकि दस केन्द्रों की सूची अभी तैयार की जा रही है। जिन आंगनवाडिय़ों के पास सरकारी भवन उपलब्ध है उन्हें इस सूची में शामिल किया जाएगा। भौतिक संसाधनों के साथ छत आंतरिक दीवारें बाहरी दीवारों पर रंग रोगन करने के साथ आकर्षक चित्रकारी भी की जाएगी। बच्चों के लिए खेल सामग्री भंडारण के लिए अलमारी, बिजली फिटींग, पंखे, बोरवेल या नल कनेक्शन, खेल-खेल में सीखने वाले उपकरण, भोजन के लिए बर्तन, बच्चों के लिए बैठक व्यवस्था की जाएगी।