Home हिन्दी फ़ोरम सीएसआर से गोवा में होगा मुफ्त आईवीएफ इलाज

सीएसआर से गोवा में होगा मुफ्त आईवीएफ इलाज

1661
0
SHARE
सीएसआर से गोवा में होगा मुफ्त आईवीएफ इलाज
 
भले ही भारत की जनसंख्या विस्फोटक हो रही है और विश्व में सबसे ज्यादा जनसंख्या वाला देश भारत का स्थान दूसरे पायदान पर हो लेकिन फिर भी कई ऐसे कपल है जो मम्मी-पापा जैसे शब्द सुनने के लिए तरसते है। हज़ारों लाखों ऐसे लोग है जिनके घर किलकारी नहीं गूंजती। कई ऐसी महिलाएं है जिन्हें मातृत्व का सुख नहीं मिल पाता। ऐसे में गोवा भारत का पहला राज्य होगा जहां सरकार ऐसे दंपतियों को मुफ़्त आईवीएफ इलाज देगी जो माता-पिता बनना चाहते हैं। गोवा मेडिकल कॉलेज में आईवीएफ के इलाज के लिए अब तक 100 दंपति रजिस्टर करा चुके हैं और इसके लिए कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी (सीएसआर – Corporate Social Responsibility) फंडिंग करेगा।

आईवीएफ के लिए अब तक 100 दंपति करा चुके हैं रजिस्टर, सीएसआर से होगा मुफ्त इलाज

The CSR Journal से ख़ास बातचीत करते हुए गोवा के स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे ने बताया कि जब हमने ऐसे दंपतियों को लेकर शोध किया तो पाया कि हर साल गोवा से तकरीबन 200-300 कपल आईवीएफ़ के लिए मुंबई, पुणे, कोल्हापुर आदि जगह पर जाते हैं। (Free IVF Treatment) इनमें से कई परिवार ऐसे होते थे जो अपनी जमा पूंजी इसमें लगा देते हैं। कई बार वे नकली डॉक्टरों के चक्कर में फंस जाते थे, ऐसे में पैसा भी जाता और सफलता भी हासिल नहीं होती थी। उनका माता-पिता बनने का सपना अधूरा ही रह जाता है। ऐसे कई जोड़ों ने हमसे अपना दुख साझा किया और तब हमने यह फैसला लिया कि उनकी मदद की जाए क्योंकि हम किसी दंपति को संतान सुख से दूर नहीं रखना चाहते हैं।

सीएसआर फंड की मदद से गोवा में होगा मुफ्त आईवीएफ इलाज

आमतौर पर देखा जाए तो आईवीएफ के इलाज में पांच लाख से ज़्यादा ख़र्च आता है ऐसे में अगर गोवा (Goa Government News) की सरकार दंपतियों को ये मदद मुफ्त मुहैया कराने का फैसला की है जिसका खर्च CSR Funds से वहन किया जायेगा। गोवा सरकार की इस योजना में सीएसआर 100 प्रतिशत मदद करेगा जहां वे बुनियादी सुविधाओं से लेकर उसके विस्तार का खर्च सरकार उठाएगी। इकोनॉमिक सर्वे 2022-23 पर छपी जानकारी के मुताबिक पिछले पांच सालों में गोवा की प्रजनन दर या फर्टिलिटी रेट में कमी आई है। इस सर्वे में नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे के छपे आंकड़ों के अनुसार गोवा की कुल प्रजनन दर 1.3 है।

क्या होता है In vitro fertilization (IVF) आईवीएफ

In vitro fertilization (IVF) आईवीएफ, एआरटी (असिस्टिड रिप्रोडक्टिव टेक्नोलॉजी) तकनीक के अंतर्गत आता है जिसमें आर्टिफिशियल तकनीक की सहायता से महिला मां बनती है। इसी में आईवीएफ़ तकनीक भी शामिल है जिसके अंतर्गत महिला के गर्भाशय के अंडे बाहर निकाल कर लैब में स्पर्म से फर्टिलाइज़ किया जाता है। फर्टिलाइज़ होने पर भ्रूण तैयार किया जाता है और उसके बाद उसे महिला के गर्भाशय में ट्रांसफर कर दिया जाता है। बाद में महिला प्रेग्नेंट होती है। बहरहाल गोवा सरकार की ये पहल सराहनीय है और अन्य राज्यों के लिए उदाहरण।