Home Header News नागरिकता कानून पर हंगामा है बरपा !

नागरिकता कानून पर हंगामा है बरपा !

16
0
SHARE
 
नागरिकता कानून को लेकर पूरे देश भर में बवाल मचा है, हंगामा हो रहा है, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, वेस्ट बंगाल, महाराष्ट्र जैसे राज्यों में हंगामा बरपा है, दंगाई लगातार प्रदर्शन को दंगे का रूप देना चाहते है वही पुलिस पर भी प्रदर्शन के दमन का आरोप लग रहे है। जामिया के बाद दिल्ली के सीलमपुर और जाफराबाद में नागरिकता कानून को लेकर हिंसक प्रदर्शन हुआ है।

प्रदर्शन के नाम पर लगातार दिल्ली जल रही है

नागरिकता कानून का विरोध सबसे ज्यादा दिल्ली में हो रहा है, 2 दिन पहले जामिया मिल्लिया यूनिवर्सिटी में हिंसक प्रदर्शन हुए उसके ठीक बाद मंगलवार को सीलमपुर और जाफराबाद में बवाल मच गया है।नागरिकता क़ानून के ख़िलाफ़ जारी प्रदर्शन ने अब पूर्वी दिल्ली को तनावग्रस्त बना दिया है, इलाक़े में प्रदर्शनकारियों और पुलिस बलों के बीच तीखी झड़प हो रही है।
जामिया मिल्लिया इस्लामिया के छात्रों पर हुए पुलिसिया दमन और नागरिकता कानून के ख़िलाफ़ सीलमपुर में चल रहे प्रदर्शन को रोकने के लिए जब पुलिस पहुंची तो दोनों तरफ़ से टकराव शुरू हो गया। ख़बरों के मुताबिक़ प्रदर्शनकारियों ने पुलिस के ऊपर पत्थर फेंके, जिसके बाद पुलिस ने हवाई फायरिंग की और आंसू गैस के गोले दागने शुरू कर दिए। इलाक़े में कई जगह आगजनी भी देखी जा रही है, टकराव में कई गाड़ियों में तोड़फोड़ हुई है। दो बसें बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गई हैं।

प्रदर्शन को देखते हुए मेट्रो सेवा बंद

बढ़ते तनाव को देखते हुए वेलकम, जाफ़राबाद, मौजपुर-बाबरपुर, सीलमपुर और गोकुलपुरी मेट्रो स्टेशन को बंद कर दिया गया है। यहां पर न कोई यात्री मेट्रो में सवार हो सकता है और न कोई बाहर निकल सकता है। इलाके में जाने वाले सभी रास्तों पर पुलिस ने बेरिकेडिंग कर दी है और पर्याप्त मात्रा में पुलिस बल तैनात कर दिए गए है।
जाफ़राबाद इलाक़े में निगरानी के लिए पुलिस ड्रोन कैमरे का इस्तेमाल कर रही है, इलाक़े को पुलिस ने घेर लिया है, तनाव बढ़ने के बाद वहां अतिरिक्त जवानों को तैनात कर दिया गया है। पुलिस आरोपियों की धड़पकड़ कर हिरासत में ले रही है। बहरहाल इलाके में स्तिथि शांत लेकिन तनावपूर्ण है। इन सब के बीच दी सीएसआर जर्नल भी जनता से अपील करता है कि हमारे देश के लोकतंत्र में सभी को विरोध करने का हक़ है लेकिन शांतिपूर्ण तरीके से, प्रदर्शनकारी अपनी बात सरकार तक जरूर रखें लेकिन सौहार्दपूर्ण रवैये से। सरकारी संपत्ति का नुकसान, देश का नुकसान होता है, एक जिम्मेदार नागरिक बनें और शांति बनाएं रखें।