Home CATEGORIES Business Ethics & Philanthropy गौतम अदाणी की मदद से 4 साल की बच्ची का होगा दिल...

गौतम अदाणी की मदद से 4 साल की बच्ची का होगा दिल का ऑपरेशन

108
0
SHARE
Gautam Adani, Chairman, Adani Group
 
अदाणी समूह के मालिक गौतम अदाणी की पहल से उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh News) की 4 साल की एक बच्ची को नई जिंदगी मिलने वाली है। दरअसल गंभीर दिल की बीमारी से जूझ रही मनुश्री को SGPGI में ऑपरेशन के लिए 1 लाख 25 हजार रुपए की जरूरत हैं। जैसे ही ये बात Gautam Adani तक पहुंची उन्होंने तुरंत मदद के हाथ बढ़ाये हैं। उत्तर प्रदेश के लखनऊ में आशुतोष त्रिपाठी ने सोशल मीडिया के माध्यम से दो दिन पहले ही मदद की गुहार लगाई थी।
इस बीच अदाणी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडानी ने खुद ट्वीट कर बताया कि मनुश्री की मदद के लिए अडानी फाउंडेशन उनके परिवार से मिलेगा और इलाज के लिए हर संभव मदद भी करेगा। गौतम अदाणी ने लखनऊ के आशुतोष के ट्वीट पर रिप्लाई करते हुए लिखा कि मनुश्री जल्द ही ठीक हो जाएगी। अदाणी फाउंडेशन के लोगों को उसके परिवार से संपर्क करने के लिए बोला हैं। अडानी फाउंडेशन हर वो संभव मदद करेगा जिससे कि वो जल्द ही स्कूल में वापसी कर अपने दोस्तों के साथ खेल सके।
Manushree, patient
The CSR Journal ने ट्वीट करनेवाले आशुतोष से बातचीत की, आशुतोष ने बताया कि वो एक फोटो जर्नलिस्ट है और उनके सहयोगी शशिकांत गौतम की बेटी मनुश्री जब 9 महीने की थी तब दिल में छेद की बीमारी का पता चला। तभी से SGPGI में इलाज चल रहा है। अब मनुश्री 4 साल की हो गई हैं। डॉक्टरों ने एस्टीमेट बनाकर सोमवार को सर्जरी की तारीख दी है। जल्दी से ऑपेरशन करना है और मनुश्री के परिवार वालों की माली हालत ठीक नही है। इसलिए मैंने सोशल मीडिया का सहारा लिया।
The CSR Journal ने मनुश्री के पिता से बात की तो उन्होंने बताया कि “खुद से करीब 90 हजार से व्यवस्था हो गई थी, पर इलाज के लिए 1 लाख 25 हजार जमा करना हैं। गौतम अदाणी की पहल के बाद अभी तक 1 लाख 40 हज़ार तक मदद मिल चुकी है। अदाणी फाउंडेशन के लोग अस्पताल आकर मुलाकात किये है”।
SGPGI के हेड ऑफ कार्डियोलॉजी प्रो. आदित्य कपूर ने बताया कि बच्चे की ASD डिवाइस क्लोजर की सर्जरी होनी हैं। संस्थान की तरफ से एस्टीमेट बनाकर दिया गया हैं। उसे बेहतरीन सुविधाएं मुहैया कराई जाएगी। वहीं आशुतोष बताते है कि गौतम अदाणी की मदद के ट्वीट के बाद बच्ची की आर्थिक मदद के लिए बहुत लोगों ने हाथ बढ़ाये। लेकिन ये पैसे बच्ची के ऑपेरशन के बाद खर्च किये जायेंगे। साथ ही जो पैसा बचेगा उसे किसी जरूरतमंद को या फिर NGO को दान दे दिया जाएगा।