Home Header News लोकतंत्र के इस महापर्व के आप भी भागीदारी बने और जरूर वोट...

लोकतंत्र के इस महापर्व के आप भी भागीदारी बने और जरूर वोट करें

1024
0
SHARE
 
चुनाव देश के नागरिकों को अधिकार देता है अपना नेता चुनने का, चुनाव हक़ देता है भागीदारी का, चुनाव के जरिये हम अपने लोकतंत्र को और भी मजबूत बनाते है, चुनाव के जरिये ही देश में प्रधानमंत्री जैसे शिखर नृतत्व चुने जाते है, लोकतंत्र के इस महापर्व में आप जरूर वोट करें, और चुनाव करते वक़्त कई बातों का जरूर ध्यान दें कि जिस उम्मीदवार को हम चुनकर संसद में भेजेंगे वो कैसा है, क्या वो विकास की राजनीति करता है या अन्य, क्या वो उम्मीदवार स्थानीय मुद्दों को, हमारी और जनता की परेशानियों को दिल्ली तक पहुंचाता है, उसका निदान करने में क्या वो सक्षम है। मुंबई और मुंबई के आसपास समेत महाराष्ट्र के 17 सीटों पर सोमवार 29 तारीख को चुनाव है और चुनाव आयोग ने तैयारियां पूरी कर ली है, जहाँ एक तरफ प्रसाशन मुस्तैद है वही मुंबई पुलिस भी अलर्ट पर है।
चुनावी समीकरणों की बात करें तो मुंबई की छह लोकसभा सीटें, राज्य की उन 17 सीटों में शामिल हैं जहां चौथे चरण के लोकसभा चुनाव के अंतर्गत मतदान होना है। इसमें देश की कमर्शियल और ग्लैमर राजधानी मुंबई महानगर क्षेत्र शामिल है। इन सीटों में, धुले से केंद्रीय रक्षा राज्यमंत्री सुभाष भामरे, उत्तरी मुंबई से उर्मिला मातोंडकर, शिरूर से अमोल कोल्हे, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी प्रमुख शरद पवार के पोते पार्थ अजित पवार मावल से और नासिक से समीर भुजवल चुनाव मैदान में हैं। राज्य में अंतिम चरण के लिए होने वाले मतदान के अंतर्गत मुख्य संसदीय क्षेत्र नांदुरबार, धुले, दिंडोरी, नासिक, पालघर, भिवंडी, कल्याण, ठाणे, उत्तरी मुंबई, उत्तर-पश्चिम मुंबई, उत्तर-पूर्व मुंबई, उत्तर-मध्य मुंबई, दक्षिण-मध्य मुंबई, मवाल, शिरूर, शिर्डी शामिल है। इन क्षेत्रों की आम समस्याएं बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर, बेहतर आवागमन और कनेक्टिविटी, पानी समस्या, रोजगार और सस्ता घर हैं। पहले तीन चरणों में 31 सीटों के लिए मतदान हुआ है। बीजेपी -शिवसेना-आरपीआई गठबंधन ने 2014 में सभी 17 सीटें जीती थीं। लेकिन इस बार एनडीए को इनमें से कुछ क्षेत्रों में चुनौती का सामना करना पड़ सकता है, जिनमें मुंबई की सीट भी शामिल है। जानकार बताते हैं कि मराठा समुदाय और किसानों की नाराजगी इस गठबंधन को भारी पड़ सकती है।
बहरहाल अगर हम सुरक्षा की बात करें तो बीते कुछ दिन पहले ही पडोसी मुल्क श्रीलंका में हुए आतंकी हमले को देखते हुए चुनाव के दौरान सुरक्षा व्यवस्था पूरी तरह से पुख्ता है, मुंबई में कुल 6 लोकसभा सीटों के लिए कुल 10073 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। इनमें 325 मतदान केंद्र संवेदनशील घोषित किए गए हैं। इसे देखते हुए 40,600 पुलिसकर्मियों का बंदोबस्त पर लगाया गया है। इनमें एसआरपीएफ की 12 , केंद्रीय पैरा मिलिट्री फोर्सेस की 14 टुकड़ियों के अलावा 6000 होमगार्ड्स भी शामिल हैं। मुंबई में मतदान के दिन फोर्स वन, क्यूआरटी यानी क्विक रिस्पॉंस टीम और एन्टी टेरर सेल को भी अलर्ट रहने को कहा गया है। मुंबई में नाकाबंदी बढ़ा दी गई है और होटलों और लॉज में आने वालों की पृष्ठभूमि पूछी जा रही है। सोमवार को सभी पुलिसकर्मियों की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं। मुंबई में कुल 391 अवैध हथियार भी जब्त किए हैं और 4833 लोगों के खिलाफ गैर जमानती वॉरंट जारी किया है। 10 लाख रुपये से ज्यादा कीमत की 2648 लीटर अवैध शराब जब्त की गई है। पुलिस ने शहर में 35 अलग-अलग छापों में कुल 10 करोड़ 50 लाख रुपये की नकदी भी जब्त की है।
बहरहाल दी सीएसआर जर्नल देश के हर नागरिक से अपील करता है कि आप अपने घरों से निकले और बिना किसी भय के, बिना किसी लालच में आये सही जनता के प्रतिनिधि को चुुुनेे ताकि देेेश लोकतंत्र मजबूत हो सके।