Home Header News भारतीय सेना दिवस पर जानें अग्निवीर स्कीम की पूरी जानकारी

भारतीय सेना दिवस पर जानें अग्निवीर स्कीम की पूरी जानकारी

676
0
SHARE
भारतीय सेना दिवस पर जानें अग्निवीर स्कीम की पूरी जानकारी
 
आज भारतीय सेना दिवस है, इस दिन Indian Army की उपलब्धियों को याद किया जाता है। हर साल भारत में 15 जनवरी का दिन थल सेना दिवस ( इंडियन आर्मी डे ) के तौर पर मनाया जाता है। इस बार भारतीय सेना अपना 76वां आर्मी डे मना रही है। आज का दिन इंडियन आर्मी के जज्बे, बहादुरी, शौर्य और अदम्य साहस को सलाम करने का दिन है। युद्ध हो, देश में किसी बड़ी त्रासदी के आने के बाद रेस्क्यू करना हो या आपातकाल स्थिति में जल्द से जल्द जरूरतमंद लोगों के पास मदद पहुंचाने का काम हो इंडियन आर्मी हर जगह मुस्तैदी के साथ काम करती है। इंडियन आर्मी के इस ख़ास अवसर पर आईये जानते है इंडियन आर्मी की अग्निपथ योजना के बारे में। इस योजना के तहत सेना में शामिल होने वाले जवानों को ‘अग्निवीर’ के नाम से भी जाना जाता है।

इंडियन आर्मी की क्या है अग्निपथ योजना

अग्निपथ योजना (Agnipath Yojana) के तहत देशभर के वे युवा जिनकी उम्र 17 साल से लेकर 23 साल है, वे सेना के तीनों अंगों में अग्निवीर सैनिक पद के लिए आवेदन दे सकते हैं। चार साल की कार्य अवधि में अग्निपथ स्कीम के माध्यम से पहले साल युवाओं को 30 हज़ार रुपए मासिक वेतन दिया जाएगा और आखिरी साल आते-आते यह वेतन 40 हज़ार तक पहुंच जाएगा। यही नहीं अग्निपथ भर्ती योजना (Agnipath Recruitment Scheme in Indian Army) के तहत 4 साल बाद इन युवाओं में से 25 फीसदी युवाओं को रिटेन किया जाएगा यानि ऐसे युवा पूर्णकालिक नौकरी के लिए तैयार माने जाएंगे।
इस स्कीम की सहायता से सरकार को सेना की औसत उम्र 32 साल से 26 साल करने में सहायता मिलेगी जिससे न सिर्फ सशस्त्र बल में बल्कि बहुत से युवाओं को नौकरी भी मिलेगी साथ ही अग्निपथ स्कीम 2022 (Agnipath Scheme) के आ जाने के बाद सेना में सिपाही के पद पर नई भर्तियां अब अग्निपथ योजना के तहत होंगी। साथ ही इसके तहत भविष्य में मेरिट और संगठन की ज़रूरत को देखते हुए 25 प्रतिशत तक अग्निवीर सैनिकों को सेना में 4 वर्ष की सेवा के बाद भी रिटेन किया जाएगा।
वहीं चार साल की नौकरी के बाद बाकी के 75 प्रतिशत युवाओं को एकमुश्त राशि के साथ-साथ सरकार की तरफ से तकनीकी योग्यता का सर्टिफिकेट दिया जाएगा, जिससे उन्हें भविष्य में विभिन्न क्षेत्रों में क्षमता अनुसार नौकरी पाने में सहायता प्राप्त होगी। इसके साथ ही सभी उम्मीदवार नियमित संवर्ग में भर्ती के लिए बतौर वालंटियर आवेदन कर सकते हैं।

क्या है भारतीय सेना के अग्निपथ योजना में भर्ती की प्रक्रिया

Indian Army Recruitment में ऐसा नहीं है की इसमें कोई बदलाव किया गया है ये ठीक पुरानी प्रक्रिया की तरह ही है। इसके लिए आर्मी के पुराने तरीके का ही पालन किया जाएगा। इसके लिए शारीरिक परीक्षण के साथ-साथ युवाओं को लिखित परीक्षा से भी गुज़रना होगा। अग्निपथ पात्रता मानदंड (Agneepath Scheme Eligibility) के अनुसार यदि अग्निपथ भर्ती योजना के लिए आवेदन देने वाले युवाओं की उम्र सीमा की बात करें, तो इस योजना के लिए आवेदन देने वाले युवाओं की न्यूनतम आयु 17 साल और अधिकतम आयु 21 साल निर्धारित की गई है (केवल साल 2022 के लिए 23 वर्ष रखी गई है।)। अग्निपथ भर्ती योजना के तहत युवाओं को ट्रेनिंग पीरियड समेत कुल 4 वर्षों के लिए सशस्त्र सेवा बल में फुल टाइम काम करने का मौका मिलेगा, जिसके लिए भर्ती सेना के तय नियमानुसार ही होगी।
लेकिन इसकी सबसे खास बात ये है कि इस योजना के तहत न सिर्फ पुरुष, बल्कि महिलाएं भी आवेदन कर सकती हैं। युवा इस योजना के माध्यम से सेना के तीनों प्रमुख अंग यानि कि थल सेना, वायुसेना और नौसेना में बहाल हो सकेंगे।

सेना के अग्निवीरों को कितनी मिल सकती है तनख्वाह? (Salary for Agniveer)

अग्निपथ स्कीम के तहत पहले साल युवाओं को 30 हज़ार रूपए प्रति माह मिलेंगे, जिसमें से लगभग 9000 रूपए उनकी मासिक आय से काट ली जाएगी और उसे उनके बचत खाते में जमा किया जाएगा। इसके बाद उतना ही हिस्सा सेना भी उनकी सेविंग में मिलाएगी। प्रत्येक साल सैलरी बढ़ने के साथ-साथ बचत खाते में जमा की जाने वाली रकम भी बढ़ेगी। साथ ही 4 साल बाद जब ये युवा सेना को छोड़ेंगे, तब उन्हें लगभग 11,70,000 सेवा निधि के रूप में दिए जाएंगे।

अग्निवीरों का वेतन पैकेज पहले और अंतिम वर्ष कुछ इस प्रकार का होता है

पहले वर्ष का पैकेज 4.76 लाख रुपए होगा।
अंतिम वर्ष का पैकेज 6.92 लाख रुपए होगा।
इसके अलावा सेना की तरफ से ऐसे युवाओं एक विशेष सर्टिफिकेट भी दिया जाएगा, जिसकी वजह से उन्हें विभिन्न पदों पर नौकरी पाने में सहायता मिलेगी। विभिन्न राज्यों ने अग्निवीरों को सेवाओं में प्राथमिकता देने की बात भी कही है। अग्निवीरों को तीन सेवाओं में जोखिम और कठिनाई भत्ते के साथ ही कस्टमाइज्ड मासिक पैकेज की भी बात की गई है, जिसमें चार साल की सेवा अवधि पूरी होने पर, अग्निवीरों को एकमुश्त ‘सेवा निधि’ पैकेज का भुगतान किया जाएगा और ये राशि आयकर से मुक्त होगी।
अग्निपथ योजना के तहत सेना में भर्ती होने वाले युवाओं का 48 लाख रुपयों का गैर-अंशदाई जीवन बीमा किया जाएगा। वहीं यदि सेवा के दौरान किसी की मृत्यु हो जाती है, तो 44 लाख रुपये पीड़ित परिवार को दिए जायेंगे। इन 44 लाख रुपयों के अलावा सरकार ऐसे शहीदों के बचे हुए सेवाकाल (अधिकतम 4 साल) के वेतन का भुगतान भी करेगी। साथ ही अन्य अग्निपथ योजना के माध्यम से भर्ती हुए जवानों को मिलने वाली सेवा निधि भी, शहीद के परिवार को दी जाएगी।

सेना के अग्निवीर स्कीम में भत्ता और उसके लाभ

महिला अग्निवीर।
अग्निपथ योजना में बेसिक पे के साथ-साथ युवाओं को उसी तरह भत्ते भी दिए जाएंगे यानि इन भत्तों में रिस्क एंड हार्डशिप, राशन, ड्रेस और ट्रैवल अलाउंस प्रमुख भत्ते होंगे। इसके अलावा सेवा निधि में मिलने वाले रुपए को ‘कर मुक्त’ किया गया है, जिससे युवाओं की आर्थिक स्थिति में भी सुधार होगा, हालांकि अग्निवीरों को ग्रेच्युटी और पेंशन संबंधी लाभ नहीं प्राप्त होंगे।

सेना में अग्निवीर के शहीद होने पर क्षतिपूर्ति के लिए ये होता है

अग्निपथ योजना के तहत सेना में भर्ती होने वाले युवाओं का 48 लाख रुपयों का गैर-अंशदाई जीवन बीमा किया जाएगा। वहीं यदि सेवा के दौरान किसी की मृत्यु हो जाती है, तो 44 लाख रुपये पीड़ित परिवार को दिए जाएँगे। इन 44 लाख रुपयों के अलावा सरकार ऐसे शहीदों के बचे हुए सेवाकाल (अधिकतम 4 साल) के वेतन का भुगतान भी करेगी। साथ ही अन्य अग्निपथ योजना के माध्यम से भर्ती हुए जवानों को मिलने वाली सेवा निधि भी, शहीद के परिवार को दी जाएगी।
वहीं यदि कोई जवान सेवा के दौरान दिव्यांग हो जाता है, तो उसे उसकी दिव्यांगता के प्रतिशत के आधार पर मुआवजा दिया जाएगा। 100 फीसदी होने पर 44 लाख रुपए, 75 फीसदी होने पर 25 लाख रुपए, 50 फीसदी होने पर 15 लाख रुपए दिव्यांगता पर दिया जायेगा।