Home हिन्दी फ़ोरम सीएसआर से यूपी का पहला कार्बन फ्री मंदिर होगा काशी विश्वनाथ

सीएसआर से यूपी का पहला कार्बन फ्री मंदिर होगा काशी विश्वनाथ

87
0
SHARE
 
विश्व प्रसिद्ध बनारस के श्री काशी विश्वनाथ धाम में भक्त जल्द ही शुद्ध हवा में सांस ले सकेंगे। ये पहली बार होगा जब उत्तर प्रदेश का कोई मंदिर कार्बन फ्री मंदिर होगा। ये संभव हो पायेगा सीएसआर (Corporate Social Responsibility) की वजह से। बाबा विश्वनाथ धाम में एयर प्यूरीफायर लगाया जाएगा। विश्वनाथ धाम में अलग-अलग 12 जगहों पर ये एयर प्यूरीफायर लगाए जाएंगे। एयर प्यूरीफायर लगाने को लेकर सर्वे का काम भी शुरू हो गया है। विश्वनाथ धाम में एयर प्यूरीफायर लगाने के बाद यूपी का ये पहला मंदिर होगा जो पूरी तरह से कार्बन फ्री जोन बन जायेगा।

यूपी – 15 लाख के सीएसआर फंड से लगेगा एयर प्यूरीफायर सिस्टम

विश्वनाथ धाम में इस एयर प्यूरीफायर सिस्टम को सीएसआर फंड (CSR in Varanasi) से लगवाया जाएगा। जानकारी के मुताबिक इस एयर प्यूरीफायर की कीमत करीब 15 लाख रुपये है। जल्द ही ट्रायल के लिए विश्वनाथ धाम में मणिकर्णिका घाट के करीब इसे लगाया जाएगा। ट्रायल सफल रहा तो धाम के दूसरे 11 स्थानों पर भी ये प्यूरीफायर सिस्टम लगेगा, जिसके बाद पूरा जोन कार्बन फ्री हो जाएगा। प्रदूषण की वजह से श्रद्धालुओं को बहुत दिक्कत होती है। बाबा विश्वनाथ धाम का गंगद्वार महाश्मशान मणिकर्णिका घाट से सटा हुआ है। इसी महाश्मशान घाट पर हर दिन सैकड़ों शवों का अंतिम संस्कार होता है। शवों के अंतिम संस्कार के कारण प्रदूषण और गंध से धाम में आने वाले श्रद्धालुओं को परेशानी होती थी।
धुएं और राख के बहुत से कण धाम तक पहुंचते है जिसके कारण मंदिर प्रशासन भी चिंतित था और अब इस समस्या से निजात दिलाने के लिए एयर प्यूरीफायर सिस्टम को यहां लगाया जाएगा। मणिकर्णिका घाट पर दहकती चिताओं के कारण श्री काशी विश्वनाथ धाम पीएम 2.5 और पीएम 10 के साथ ही कार्बन की मात्रा में अप्रत्याशित रूप से बढ़ोतरी दर्ज की गई। वहीं निर्माण कार्य के कारण आसपास के क्षेत्र से पेड़-पौधों में भी कमी आई है। प्रदूषण के स्तर को देखते हुए मंदिर प्रशासन ने धाम क्षेत्र को कार्बन व प्रदूषण से मुक्त करने के लिए एयर प्यूरीफायर लगाने का निर्णय लिया है।

सीएसआर से संवरेगी यूपी की श्री काशी विश्वनाथ धाम की व्यवस्था

श्री काशी विश्वनाथ धाम सीएसआर फंड से सफाई व्यवस्था को सुधारा जाएगा। सीएसआर फंड से अत्याधुनिक मशीनें भी लगाई जाएंगी। इसके अलावा मंदिर क्षेत्र के भवनों में भी सीएसआर फंड के तहत फर्नीचर भी मंगाए जा रहे हैं। The CSR Journal से बात करते हुए वाराणसी के मंडल कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने बताया कि निजी कंपनी के सीएसआर फंड से इस प्यूरीफायर सिस्टम को लगाया जाएगा।

यूपी में स्वास्थ्य, पोषण और कृषि में सहयोग करेगा बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन

उत्तर प्रदेश में निवेश और सीएसआर के तहत विकास को लेकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन के सीईओ से मुलाकात की और राज्य सरकार के साथ स्वास्थ्य, पोषण और कृषि के क्षेत्र में तकनीकी सहयोग को और अधिक बढ़ाने पर चर्चा की। इस मौके पर बीएमजीएफ के सीईओ मार्क्स सुजमैन ने कहा कि वह कई देशों में कार्य करते हैं और सभी का कोविड प्रबंधन देखा है, लेकिन यह कहना उचित होगा कि भारत, खासकर उत्तर प्रदेश, का कोविड प्रबंधन अमेरिका के कोविड प्रबंधन से कहीं बेहतर रहा।