Home हिन्दी फ़ोरम कोरोना टीकाकरण की शुरुआत, जानें वैक्सीन की बड़ी बातें

कोरोना टीकाकरण की शुरुआत, जानें वैक्सीन की बड़ी बातें

48
0
SHARE
 
आखिरकार वो घड़ी आ ही गई जिसका कोरोना वायरस के दस्तक देने के बाद से ही भारत को इंतजार था। जिसका देश का हर एक नागरिक बेसब्री से राह देख रहा था। शनिवार 16 जनवरी, 2021 को पूरे भारत में महाभियान के तहत कोरोना टीकाकरण अभियान (Corona Vaccination Drive) का आगाज किया गया। यह दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान है। देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार सुबह 10:30 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये टीकाकरण अभियान (Vaccination Programe) की शुरुआत की।
टीकाकरण की शुरुआत होते ही पूरे देश में जश्न का माहौल है। वहीं Corona Vaccination को लेकर देश भर के टीकाकरण सेंटर्स (Vaccination Centers) पर जबरदस्त उत्साह देखने को मिल रहा है। कहीं कोरोना वैक्सीन के पहुँचने पर हेल्थ वर्कर्स (Heath Workers) ने ताली बजाकर स्वागत किया। तो कहीं, टीकाकरण के लिए आने वालों की आरती उतारी गई। अधिकतर जगहों के वैक्सीनेशन सेंटर्स को सजाया भी गया। पहले चरण में 3 करोड़ फ्रंट लाइन वर्कस (Front Line Workers) का Vaccination होगा। टीकाकरण का समय सुबह 9 बजे से शाम के 5 बजे तक है।
टीकाकरण का उदघाटन करते हुए पीएम मोदी ने देश के वैज्ञानिकों को बधाई दी और कहा कि ये दुनिया का सबसे बड़ा कोरोना वैक्‍सीनेशन प्रोग्राम है।

तो आईये जान लेतें हैं कोरोना वैक्सीनेशन के बारे में कुछ अहम बातें

– कोरोना वैक्सीनेशन के बारे में आपको कोई भी जानकारी चाहिए तो आप 1075 हेल्पलाइन नंबर पर फ़ोन कर सकते हैं।
– हफ्ते में चार दिन- सोमवार, मंगलवार, गुरुवार और शनिवार को सुबह 9 बजे से शाम 5 बजे तक वैक्सीन लगाई जाएगी।
– फिलहाल कोरोना वैक्सीन सिर्फ फ्रंट लाइन वर्कस (Front Line Workers) को ही लगाया जायेगा।
– वैक्सीन लगवाने के बाद सिर दर्द और थकान जैसे मामूली लक्षण दिख सकते हैं, हालांकि इसमें घबराने की जरूरत नहीं है।
– कोविड-19 वैक्सीन पुरुषों और महिलाओं में बांझपन का कारण बिलकुल नहीं हो सकता है? इस बात को लेकर कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं मिले है।
– कोरोना वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है और इस वैक्सीन का किसी भी प्रकार का साइड इफ़ेक्ट नहीं है।
– कोरोना टीका को लेकर ना अफवाह पर विश्वास करें और ना ही अफवाह फैलाएं।
– कोरोना वैक्सीन को लेकर अगर कोई भी अफवाह फैलाएगा तो उसपर क़ानूनी कार्यवाई की जाएगी।
– पहले चरण में 30 करोड़ लोगों को टीका लगाने का काम अगस्त 2021 तक चल सकता है।
– पहली डोज में जिस वैक्सीन को लिया जाएगा, दूसरे डोज में भी उसी वैक्सीन को दिया जाएगा। इस बीच वैक्सीन बदलने की इजाजत नहीं होगी।
– केंद्र सरकार ने निर्देश दिया है कि 18 साल से कम उम्र के बच्चों, गर्भवती और बच्चे को दूध पिला रही महिलाओं को कोरोना वैक्सीन का डोज नहीं लगेगी।
– जिन्हें पहले किसी बीमारी से अलर्जी है उन्हें भी कोरोना टीका न लगाने को कहा गया है।
– वैक्सीन लगवाने के लिए आपको CoWIN प्लेटफॉर्म पर रजिस्टर्ड होना अनिवार्य है। जिसके बाद आपको QR कोड आधारित वैक्सीनेशन सर्टिफ़िकेट मिलेगा।

कोरोना वायरस की टीकाकरण (वैक्सीन) लगने के बाद क्या करें क्या ना करें?

कोरोना वायरस की वैक्सीन आने से महामारी के अंत की उम्मीद तो जगी है, लेकिन सब कुछ इतनी जल्दी सामान्य होने वाला नहीं है। वैज्ञानिकों का कहना है कि वैक्सीन लगवाने के बाद भी आप को मास्क लगाना होगा और तमाम एहतियात बरतने होंगे। वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर आपको वैक्सीन की दोनों डोज़ लग चुकी है लेकिन बाकियों को नहीं लगी है तो इससे आपकी जिंदगी बहुत कुछ बदलने वाली नहीं है।  वैक्सीन लगवाने के बाद भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाना पहले की तुलना में सुरक्षित हो सकता है। खासकर जो लोग संक्रमण की जोखिम वाले क्षेत्रों में काम करते हैं उनके लिए खतरा कम हो जाएगा। यही वजह है कि भारत में पहले चरण में सबसे पहले फ्रंट लाइन वर्कर को वैक्सीन दी जा रही है।