Home हिन्दी फ़ोरम डील कंफर्म – रक्षा-सुरक्षा पर बनी भारत अमेरिका की बात  

डील कंफर्म – रक्षा-सुरक्षा पर बनी भारत अमेरिका की बात  

11
0
SHARE
 
विश्व के सबसे ताकतवर देश और सबसे प्रभावशाली व्यक्ति अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भारत दौरे पर है, मेजबानी और मेहमाननवाजी में भारत ने दिल खोलकर ट्रंप का स्वागत किया है। विश्व के सबसे बड़े लोकत्रंत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मेहमान ट्रंप के स्वागत के लिए हर जगह प्रोटोकॉल तोड़ तोड़ कर अगुवानी कर रहें है। ये बिलकुल स्वाभाविक है क्योंकि हमारे देश की यही परंपरा रही है, अतिथि देवो भवः इसी मूलमंत्र के साथ ट्रंप को भारत देश ने “भगवान” का दर्जा दिया है, शाही मेहमान के स्वागत में देश के प्रधानमंत्री भारतीयों के टैक्स को मेहमाननवाजी में खूब खर्च कर रहे है।

ट्रंप के स्वागत के लिए भारत सरकार इतने करोड़ खर्च कर रही है

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का ये भारत दौरा पहला है, दो दिवसीय इस दौरे में सोमवार को अहमदाबाद में उनका कार्यक्रम रहा, फिर आगरे में ताज महल का दीदार किया और मंगलवार पूरा कूटनीतिक मुलाकातों का दौर रहा वो भी दिल्ली में। इस दो दिनों में ट्रंप के स्वागत में किसी तरह की कमी न रह जाए, इसलिए दिल खोलकर पैसा खर्च किया गया। उनके दौरे को भव्य बनाने के लिए पूरा सरकारी तंत्र जुटा रहा। अहमदाबाद और आगरा में ट्रंप के रास्ते में पड़ने वाली एक-एक चीज पर काम हुआ। अहमदाबाद में ट्रंप को रास्ते में झुग्गी बस्ती न दिखे इसलिए दीवार खड़ी कर दी गई है, पूरे शहर की रंगाई-पुताई हुई यहां तक कि आगरा में अमेरिकी राष्ट्रपति को यमुना के गंदा पानी की बदबू न आए इसलिए नदी में ताजा पानी छोड़ दिया गया। अब एक सवाल उठ रहा है कि ट्रंप के दौरे पर कितना पैसा खर्च हो रहा है। तीन घंटे के अहमदाबाद दौरे के लिए अहमदाबाद नगर निगम ट्रंप के स्वागत के लिए करीब 100 से 110 करोड़ रुपये खर्च किया।  जाहिर है सवाल लाजमी है, सिर्फ भारत और अमेरिका ही नहीं, ट्रंप के भारत दौरे को पडोसी मुल्क समेत पूरी दुनिया देख रही है, दो ताकतवर देश और दोस्त जब मिल रहे है तो इसका प्रभाव पूरी दुनिया पर होने वाला है।

ट्रंप दौरे पर करोड़ों खर्च लेकिन भारत को क्या मिला ?

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और पीएम नरेंद्र मोदी के बीच बैठक में जिस एक बात पर सबकी नजरें लगी हुई थीं, वह था रक्षा सौदा। आखिरकार लंबी बातचीत और मोल-भाव के बाद ट्रंप ने आज दोनों देशों के बीच 3 अरब डॉलर के रक्षा डील की घोषणा कर दी। इन सबके बीच ट्रंप ने पाकिस्तान को आतंकवाद पर खरी-खरी सुनाई। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान की धरती से चलने वाले आतंकवाद पर लगाम लगाने की जरूरत है। ट्रंप और मोदी ने दोनों देशों के बीच मजबूत रिश्तों का भी जिक्र किया। ट्रंप ने कहा कि वह भारत का यह दौरा कभी नहीं भूलेंगे। इन सौदे में अमेरिका से 24 MH60 रोमियो हेलिकॉप्टर की 2.6 अरब अमेरिकी डॉलर में खरीद शामिल है। एक अन्य डील 6 AH 64E अपाचे हेलिकॉप्टर को लेकर है जिसकी कीमत 80 करोड़ डॉलर होगी । ट्रंप ने इसकी जॉइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसकी जानकारी देते हुए कहा कि 3 अरब डॉलर से ज्यादा के डिफेंस डील से दोनों देशों के रक्षा संबंध और मजबूत होंगे।

साझा समझौते के बाद क्या बोले पीएम मोदी

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को दिल्ली में साझा प्रेस वार्ता की। इस दौरान दोनों नेताओं ने दोनों देशों के बीच हुई डील का ऐलान किया। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 21वीं सदी की सबसे महत्वपूर्ण पार्टनरशिप्स में है और इसलिए आज राष्ट्रपति ट्रंप और मैंने हमारे सम्बंधों को कॉम्प्रिहेन्सिव ग्लोबल स्ट्रैटेजिक पार्टनरशिप के स्तर पर ले जाने का निर्णय लिया है। आतंक के समर्थकों को जिम्मेदार ठहराने के लिए आज हमने अपने प्रयासों को और बढ़ाने का निश्चय किया है। आज हमारे बीच ड्रग तस्करी, नार्को-आतंकवाद और संगठितत अपराध जैसी गंभीर समस्याओं के बारे में एक नए मेकैनिज्म पर भी सहमति हुई है। कुछ ही समय पहले स्थापित हमारी स्ट्रैटेजिक एनर्जी पार्टनरशिप सुदृढ़ होती जा रही है। और इस क्षेत्र में आपसी निवेश बढ़ा है। तेल और गैस के लिए अमेरिका भारत का एक बहुत महत्वपूर्ण स्त्रोत बन गया है। इसके पहले आज अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को राष्ट्रपति भवन में 21 तोपों की सलामी के साथ गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। इस मौके पर डोनाल्ड ट्रंप के साथ उनकी बेटी इवांका ट्रंप भी मौजूद थीं। राष्ट्रपति भवन में ट्रंप के आने पर पीएम मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उनका स्वागत किया। इसके बाद उन्होंने महात्मा गांधी को राजघाट पर श्रद्धांजलि दी।