Home हिन्दी फ़ोरम सस्टेनेबल पैकेजिंग के लिए राष्ट्रीय पुरस्कारों की घोषणा

सस्टेनेबल पैकेजिंग के लिए राष्ट्रीय पुरस्कारों की घोषणा

51
0
SHARE
 
सामाजिक बदलाव के लिए देश के तमाम कॉरपोरेट्स (Corporates) ना सिर्फ सीएसआर (CSR – Corporate Social Responsibility) पर जोर दे रहे है बल्कि अपने प्रोडक्ट्स की पैकेजिंग किस तरह से इनोवेटिव और सस्टेनेबल हो इसके लिए भी बड़े पैमाने पर काम कर रहे है। इनोवेशन और सस्टेनेबिलिटी पैकेजिंग के लिए इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ पैकेजिंग ने कॉरपोरेट्स को इंडिया स्टार और पैकमशीन अवार्ड्स से सम्मानित किया। दरअसल India Star और Pac Machine अवार्ड्स पैकेजिंग उत्कृष्टता के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार है। इस पुरस्कार समारोह में FMCG, Electronics और फार्मा इंडस्ट्रीज और Corporates के तमाम लोग उपस्थित रहे।

इनोवेशन और सस्टेनेबल पैकेजिंग के लिए IIP ने कॉरपोरेट्स को किया सम्मानित

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ पैकेजिंग डिजाइन, इनोवेटिव और सस्टेनेबल पैकेजिंग को बढ़ावा देने के लिए इस राष्ट्रीय पुरस्कार समारोह का आयोजन करती है। रीसाइक्लिंग (Recycling) और बायो डिग्रेडेबिलिटी (Biodegradability) पर ध्यान देने के साथ-साथ सिंगल यूज प्लास्टिक प्रतिबंध नीति के कार्यान्वयन से इस क्षेत्र में एक बड़ा बदलाव आ रहा है। विश्व स्तर पर पैकेजिंग उद्योग क्षेत्र ने खुद को सभी देशों में सबसे तेजी से बढ़ते उद्योग के रूप में स्थापित किया है। पैकेजिंग इंडस्ट्री $917 बिलियन (2019 में) से अधिक मूल्य का है।

सस्टेनेबल पैकेजिंग दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा इंडस्ट्री है

खाद्य और ऊर्जा उद्योगों के बाद पैकेजिंग दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा इंडस्ट्री है, और एकमात्र ऐसा उद्योग है जो किसी अर्थव्यवस्था में उत्पादित हर एक उत्पाद से संबंधित है। भारत के मामले में, पैकेजिंग इसकी अर्थव्यवस्था का पांचवां सबसे बड़ा क्षेत्र है और देश में सबसे अधिक विकास वाले क्षेत्रों में से एक है। पिछले कुछ सालों में पैकेजिंग उद्योग देश में प्रौद्योगिकी और नवाचार विकास को बढ़ावा देने वाला एक महत्वपूर्ण क्षेत्र रहा है और कृषि और एफएमसीजी क्षेत्रों सहित विभिन्न विनिर्माण क्षेत्रों में मूल्य जोड़ रहा है।

देश में पैकेजिंग मानकों को बढ़ावा देता है IIP

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ पैकेजिंग मिनिस्ट्री ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री, भारत सरकार के अधीन कार्यरत एक स्वायत्त और शीर्ष संस्था है। देश में पैकेजिंग मानकों को बढ़ावा देने के लिए IIP की स्थापना 1966 में हुई थी। संस्थान अपनी विविध गतिविधियों के माध्यम से पैकेजिंग में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए राष्ट्र और उद्योग की सेवा करने के लिए समर्पित है। कहते है जो दिखता है वो बिकता है, लेकिन अब कॉर्पोरेट्स अपने प्रोडक्ट्स को बेचने के लिए पैकेजिंग में दिखावा नहीं करते बल्कि उनकी पैकेजिंग कितनी इनोवेटिव (Innovative) हो और कितनी सस्टेनेबल (Sustainable) हो इसका भी बहुत ख्याल रखते है। ताकि हमारी धरती को कोई नुकसान न हो।