Home हिन्दी फ़ोरम ऐसे पाएं सीएसआर फंड

ऐसे पाएं सीएसआर फंड

127
0
SHARE
ऐसे पाएं सीएसआर फंड
 

कैसे करे CSR के लिए पहल (How to get CSR)

सामाजिक बदलाव को लेकर हम अक्सर सोचते है, हम सोचते है कि हमारा समाज ऐसा बन जाए जहां ना गरीबी हो, ना भेदभाव, ना ही कोई संसाधनों की कमी। हम और आप समाज के लिए बहुत कुछ करने की सोच रखते है। हम अपने आसपास, हम अपने गांव, अपने मोहल्ले में ऐसा बदलाव लाना चाहते है जहां किसी चीज की कमी ना हो। ना स्वास्थ्य सेवाओं की कमी, ना मूलभूत सुविधाओं की कमी, ना शुद्ध पीने की पानी की कमी, ना टॉयलेट्स का अभाव, अच्छा स्वास्थ्य, अच्छी पढ़ाई, अच्छा इंफ्रास्ट्रक्चर अब ये हमारी जरुरत है। लेकिन इस तरह का बदलाव लाने के लिए जब भी हम सोचते है हमारे सामने फंड्स की कमी रोड़ा बनकर खड़ी हो जाती है।

सीएसआर फंड की मदद से संवार दिया गांव, पीएम मोदी भी हुए मुरीद

किसी भी प्रकार का डेवलपमेंट एक्टिविटीज करने के लिए पैसों की जरूरत होती है और अगर हम ये सोचकर रुक जाते है कि मैं अकेले सामाजिक बदलाव कैसे ला सकता हूं तो आप गलत है। सामाजिक बदलाव के लिए आपके साथ सीएसआर मददगार साबित हो सकता है। आप सीएसआर की मदद से अपने आसपास, अपने गांव, मोहल्ले में सामाजिक बदलाव ला सकते है। सीएसआर (CSR) यानी कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी (Corporate Social Responsibility) की मदद से आप अपने इलाके में विकास कर सकते है। ठीक उसी तरह जैसे अमितेश कुमार ने अपने गांव की कायापलट सीएसआर की मदद से की थी। अमितेश कुमार के इस पहल को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद सराहना की थी।

सीएसआर फंड को पाने के लिए क्या करें (How Individual Gets CSR Funds)

सीएसआर फंड पाने के लिए सबसे पहले समझते है कि सीएसआर फंड होता क्या है। सीएसआर एक कानून है, कंपनीज एक्ट के मुताबिक एक कंपनी को जिसका सालाना नेटवर्थ 500 करोड़ों रुपए या उसका सालाना इनकम 1000 करोड़ रुपए या उनका वार्षिक प्रॉफिट 5 करोड़ का हो तो उनको अपनी कमाई का 2 फीसदी हिस्सा सामाजिक कामों पर खर्च करना जरूरी होता है। ऐसे में कोई भी व्यक्ति कॉर्पोरेट कंपनीज के सीएसआर फंड की मदद ले सकता है। यहां बताना बेहद जरुरी है कि सीएसआर फंड किसी भी व्यक्तिगत इंसान पर खर्च नहीं किया जा सकता है जब तक वो फंड सामाजिक भलाई के लिए ना हो।

CSR पाने के लिए सीएसआर खर्च करने वाली कंपनियों से करें संपर्क (Contact Corporates for CSR)

देश की सभी बड़ी कॉर्पोरेट्स सामाजिक भलाई के लिए CSR खर्च करती है, कौन कौन से Corporates किस तरह के CSR Initiatives करते है ये पढ़ने के लिए आप निरंतर The CSR Journal के वेबसाइट पर जाकर चेक कर सकते है। अगर आपको अपने गांव के विकास के लिए या अपने गांव के Community Need के लिए सीएसआर फंड चाहिए तो सबसे पहले आपको एक एक करके पूरा प्रक्रिया को पूरा करना होगा।

सीएसआर फंड के लिए Community Need को समझें और फिर बनायें रिपोर्ट

कॉर्पोरेट कंपनीज सीएसआर फंड किसी एक पर नहीं खर्च कर सकती, वो काम जो समाज में बड़े पैमाने पर भलाई हो सके वहां ये कॉर्पोरेट्स CSR Fund ख़र्च करती है। ऐसे में अगर आपके गांव में ऐसी कोई जरूरत की सेवाएं नहीं है और उसके आने से बड़े पैमाने पर सामाजिक बदलाव होगा तभी ये Corporates सीएसआर फंड वहां देंगी। इसलिए सबसे पहले आप एक रिपोर्ट तैयार कीजिये कि आपके गांव आपके मोहल्ले में ऐसी कौन सी सुविधा नहीं है जो आप सीएसआर की मदद से करवाना चाहते है और वो सुविधा आने के बाद कितने लोगों को उनका फायदा होगा।

Community Need के लिए CSR Companies को लिखे लेटर

उदाहरण के तौर पर अगर आपके गांव में शुद्ध पीने का पानी नहीं है या फिर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र नहीं है तो आप कॉर्पोरेट कम्पनीज को लेटर लिख सीएसआर फंड की मदद मांग सकते है। लेटर में Community Need की पूरी रिपोर्ट को अटैच करें। आप बड़ी बड़ी कम्पनीज के वेबसाइट पर जाकर उनके सीएसआर के बारें में जानकारी हासिल कर सकते है। हर एक कंपनी अलग अलग सीएसआर एक्टिविटीज करती है, कोई शिक्षा पर ज्यादा काम करती है तो कोई सैनिटेशन पर। ऐसे में आपकी थोड़ी से रिसर्च आपको सही कंपनी तक पहुंचा सकती है।

सीएसआर हेड से करें संपर्क

हर एक कंपनी का अपना वेबसाइट होता है, कंपनी अपनी वेबसाइट पर सीएसआर की पूरी जानकारी अपडेट करती है। सीएसआर कामों को लेकर पूरी जानकारी कंपनी अपने इस वेबसाइट पर डालती है। सीएसआर कमेटी, इम्प्लिमेंटिंग एजेंसीज की भी जानकारी इस वेबसाइट पर डालती है। यहां जाकर आप सीएसआर हेड की जानकारी, उनका ईमेल, कांटेक्ट डिटेल लेकर आप अपने जरूरत को साझा कर सकते है। अगर आपकी जरूरत और कंपनी का सीएसआर मैच कर गया तो ये कंपनीज अपना सीएसआर खर्च आपके गांव के विकास के लिए कर सकती है।

सीएसआर के लिए एनजीओ (NGO) से भी कर सकतें है संपर्क

कोई भी कंपनी अगर वो सीएसआर खर्च करना चाहती है तो वो सीधे तौर पर या फिर अपने फाउंडेशन की तरफ से या फिर किसी एनजीओ को इम्प्लिमेंटिंग एजेंसीज नियुक्त कर के सीएसआर कर सकती है। अगर आप को सीएसआर फंड की जरूरत है और सीएसआर फंड की मदद से आप अपने गांव या फिर अपने मोहल्ले का विकास करना चाहते है तो आप इन एनजीओ से संपर्क कर सकते है। इम्प्लिमेंटिंग एजेंसीज के नाते ये एनजीओ आपके गांव में सीएसआर ला सकती है।

ग्राम विकास में पंचायत की भूमिका अहम, सरकार से भी ले मदद

स्थानिकों की जरूरत को पूरा करने का काम जिला प्रशासन का होता है, स्थानीय जनता के प्रतिनिधि भी इनकी आवाज़ सरकार तक पहुंचा सकते है। ग्राम पंचायत में भी सीएसआर कंपनियां अपने फंड का इस्तेमाल करती है। ग्राम प्रधान भी सीएसआर के लिए इन कॉर्पोरेट्स तक मदद के लिए जा सकते है। सरकार देश के गरीबों की मदद के लिए पहल करती रहती है। भारत के संविधान के अनुसार शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छ वातावरण, कार्य का सुरक्षित स्थान इन सभी को नागरिकों के मौलिक अधिकारों के रूप में मान्यता दी गई है। हालांकि, सरकारी मदद और सेवा में हमेशा अंतर होते हैं। यही कारण है कि अक्सर सही समय पर और जमीनी स्तर पर सभी गरीब लोगों को लाभ नहीं मिल पाता है। सीएसआर कानून इन अंतर को भरने की दिशा में काम करता है और आप एक महत्त्वपूर्ण जरिया हो सकते है।