Home हिन्दी फ़ोरम कोरोना में कमी, सीएसआर से हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर सुधार में तेजी

कोरोना में कमी, सीएसआर से हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर सुधार में तेजी

179
0
SHARE
Paediatric Ward-Bhawanipatna COVID Hospital
 
कोरोना के मामलों में भले कमी आयी हो लेकिन स्वास्थ्य संसाधनों में सीएसआर के निवेश में कमी बिलकुल नहीं आयी है। कोरोना का प्रकोप कम हुआ है, पॉजिटिव केसेस में कमी देखने को मिल रही है। लॉकडाउन राज्यों से भी अच्छी ख़बरें आ रही है। अनलॉक के प्रोसेस शुरू हो चुके है। पाबंदियां हटाई जा रही है लेकिन देश के कॉरपोरेट्स अभी भी अपने कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी यानी CSR फंड की मदद से मेडिकल सुविधाओं को बढ़ाने में लगे हुए है। चाहे ऑक्सीजन की आपूर्ति हो या ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर की या फिर कोविड केयर अस्पताल की, ICU की जरुरत हो या वेंटिलेटर की। Corporate Social Responsibility की मदद से देश के कॉरपोरेट Health Infrastructure बढ़ाने में लगे हुए है।

कोरोना से लड़ने के लिए सीएसआर की मदद से ओडिशा में बना पहला पीडियाट्रिक कोविड केयर वार्ड

ऐसे समय में जब दुनिया के विशेषज्ञ कोविड-19 की तीसरी लहर के बारे में अपनी आशंकाएं व्यक्त कर रहे हैं। संभावित आने वाले खतरों से राहत एवं बचाव के लिए देश के कॉरपोरेट्स बच्चों के अस्पताल के लिए काम कर रहे है। इसी कड़ी में वेदांता ने कालाहांडी में 200 बिस्तरों वाला COVID अस्पताल ओडिशा राज्य को समर्पित किया। ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने इस अस्पताल का उद्घाटन किया। ये 200 बिस्तरों वाला अत्याधुनिक क्रिटिकल केयर COVID अस्पताल है। 16 आईसीयू और एचडीयू बेड के साथ-साथ ओडिशा का ये पहला पीडियाट्रिक कोविड केयर वार्ड भी है।

जिंदल स्टेनलेस (हिसार) लिमिटेड ने दिया 75 रेस्पिरेटरी इंसफिशिएंसी वेंटिलेटर

वहीं केंद्रीय मंत्री डॉ हर्षवर्धन महत्वपूर्ण स्वास्थ्य चुनौतियों से निपटने के लिए सीएसआर पहल के माध्यम से कॉर्पोरेट्स द्वारा बढ़े हुए योगदान को प्रोत्साहित करने के लिए विभिन्न हितधारकों के साथ बैठक भी की और कॉरपोरेट्स के सीएसआर को खूब सराहा। हरियाणा के मुख्यमंत्री ने जानकारी देते हुए बताया कि कोविड केयर के लिए जिंदल स्टेनलेस (हिसार) लिमिटेड ने COVID19 के खिलाफ लड़ाई में हरियाणा की इस लड़ाई में मदद करने के लिए CSR के तहत 75 रेस्पिरेटरी इंसफिशिएंसी वेंटिलेटर और एक्सेसरीज RESmart GII BPAP सिस्टम का योगदान दिया।

नेशनल फ़र्टिलाइज़र लिमिटेड ने दिया बस्ती और सुल्तानपुर जिलों को एडवांस लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस

कोरोना से लड़ने के लिए उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में नेशनल फ़र्टिलाइज़र ने अपने सीएसआर प्रयासों के तहत बस्ती सरकारी मेडिकल कॉलेज को एएलएस एम्बुलेंस दिया। इतना ही नहीं नेशनल फ़र्टिलाइज़र ने बस्ती (यूपी) के बाद, अपने सीएसआर प्रयासों के तहत जिला अस्पताल, सुल्तानपुर (यूपी) में एक और एडवांस लाइफ सपोर्ट (एएलएस) एम्बुलेंस दिया। नेशनल फ़र्टिलाइज़र लिमिटेड के इन सीएसआर प्रयासों से कोरोना के खिलाफ लड़ाई और भी आसान होगी।

कोयला खनन कंपनियां भी आगे

कोयला खनन कंपनियां भी आगे आकर सीएसआर के तहत कोरोना से जंग में सहयोग दे रही हैं। कोल इंडिया ने एक नई सीएसआर पहल में कोविड टीकों के परिवहन के लिए राज्य स्वास्थ्य परिवहन संगठन, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग, पश्चिम बंगाल सरकार को दो रेफ्रिजरेटेड ट्रक सौंपे हैं। वहीं  एनसीएल ने सोनभद्र (यूपी) के जिला प्रशासन को स्वास्थ्य बुनियादी ढांचे को मजबूत करने और जिले में COVID-19 के प्रसार को रोकने के लिए चिकित्सा उपकरणों की खरीद के लिए सीएसआर पहल के तहत 90 लाख रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की।

कोरोना की जंग में सीएसआर फंड से उदयपुर में भी 100 बेडेड अस्पताल की शुरुआत

उदयपुर के राजसमंद जिले में अनिल अग्रवाल फाउंडेशन, वेदांता हिंदुस्तान जिंक द्वारा अल्ट्रा मॉडर्न सुविधाओं वाले वेदांता केयर फील्ड हॉस्पिटल की शुरुआत की गयी है। डीएवी स्कूल के खेल मैदान में निर्मित 100 बेड वाले फील्ड हॉस्पिटल का शुभारंभ राजसमंद जिला कलेक्टर अरविंद पोसवाल, जिला पुलिस अधीक्षक सुधीर चौधरी एवं हिंदुस्तान जिंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अरुण मिश्रा द्वारा किया गया। इसमें 20 बेड आईसीयू और 80 बेड ऑक्सीजन की सुविधाएं होंगी।