Home हिन्दी फ़ोरम सीएसआर से रोजगार के लिए युवाओं को बनाया जा रहा है स्किल्ड

सीएसआर से रोजगार के लिए युवाओं को बनाया जा रहा है स्किल्ड

456
0
SHARE
सीएसआर - रोजगार के बेहतर मौके के लिए युवाओं को बनाया जा रहा है स्किल्ड
 
अगर युवा प्रशिक्षित है, काम के लिए कुशल है तो उसे रोजगार की समस्या नहीं होगी। इसी बात को समझते हुए छत्तीसगढ़ की सरकार रोजगार के साथ-साथ युवाओं के प्रशिक्षण और कुशलता पर जोर दे रही है। Chhattisgarh Government Employment और Skilling को बढ़ावा देने के लिए Corporate Social Responsibility की मदद ले रही है। जिसमें छत्तीसगढ़ का रायगढ़ जिला अग्रसर है। Raigarh जिले के युवाओं को स्थानीय स्तर पर उद्योगों में रोजगार मिले इसके लिए जिले के कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा लगातार कार्यरत है। जिसके लिए कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा की पहल पर जिले में इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग को बेहतर करने के लिए यहां संचालित औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों का कायाकल्प किया जा रहा है।

सीएसआर पहल से आईटीआई सेंटर्स को किया जा रहा है अपग्रेड

सीएसआर और डीएमएफ से करीब 2.25 करोड़ से अधिक की राशि से इन आईटीआई सेंटर्स को सुदृढ़ किया जा रहा है। बिल्डिंग रेनोवेशन के साथ उपकरणों व संसाधनों की व्यवस्था की जा रही है। जिससे यहां एडमिशन लेने वाले छात्रों को पढ़ाई और प्रशिक्षण के लिए बेहतर माहौल मिले और उद्योगों की आवश्यकता के अनुसार अच्छे स्किल्ड (Skilled) एवं वेल ट्रेंड एम्प्लॉयी तैयार किए जा सकें। कलेक्टर के निर्देश पर Industrial Training Institute पुसौर और महिला रायगढ़ का अपग्रेडेशन  एनटीपीसी के सीएसआर (NTPC CSR) द्वारा किया जा रहा है। जिसमें आईटीआई पुसौर में लगभग 1 करोड़ 19 लाख की लागत से क्लासरूम, फर्नीचर व ट्रेनिंग के लिए उपकरणों की व्यवस्था की गई है।

सीएसआर से आईटीआई संस्थानों का 2.25 करोड़ की लागत से हो रहा कायाकल्प, बढ़ेगा रोजगार

इसी प्रकार आईटीआई तमनार का रिनोवेशन जेपीएल तमनार के माध्यम से लगभग 40 लाख रुपए की लागत से हो रहा है। जिसमें बिल्डिंग के रिनोवेशन के साथ फिटर और वेल्डर ट्रेड को अपग्रेड किया जा रहा है। खरसिया आईटीआई में टाटा टेक्नोलॉजी के माध्यम 6 नए ट्रेड खोले जायेंगे। इसके लिए आवश्यक इंफ्रास्ट्रक्चर उपलब्ध कराने हेतु जीपीएल तमनार के माध्यम से लगभग 25 लाख की लागत से कराया जा रहा है। इसी कड़ी में रायगढ़ आईटीआई में संचालित व्यवसायों का अपग्रेडेशन एमएसपी स्टील द्वारा लगभग 15 लाख की लागत से किया जा रहा है। साथ ही संस्था के ट्रेसम हाल का जीर्णोद्धार के लिए डीएमएफ फंड से 15 लाख की राशि स्वीकृत की गई है। जिसका काम पीडब्ल्यूडी द्वारा किया जा रहा है।

सीएसआर – इंडस्ट्रियल ट्रेनिंग की गुणवत्ता होगी बेहतर, मिलेंगे रोजगार के अवसर

The CSR Journal से खास बातचीत करते हुए रायगढ़ के कलेक्टर तारन प्रकाश सिन्हा (Raigarh Collector Taran Prakash Sinha) ने बताया कि इन ITI के अपग्रेडेशन से युवाओं को कुशल बनाया जा सकेगा, जिससे उनके गुणवत्ता को निखारने में मदद मिलेगी। सीएसआर (CSR) के तहत कंपनीज को सीधे संस्थाओं में सुविधाओं को बेहतर करने की जिम्मेदारी दी गई है। जिससे तेजी से काम हो रहा है। प्रशिक्षण उपरांत युवाओं को जिले में ही स्थापित औद्योगिक इकाइयों में भी रोजगार मुहैया कराने के क्षेत्र में रोजगार मेले के माध्यम से भी सार्थक प्रयास किया जा रहा है। रायगढ़ जिले के युवाओं को उनके ही जिले में नौकरी मिल सके इसके लिए जिला प्रशासन रोजगार मेले का आयोजन भी करता है। ये रोजगार मेला 11 और 12 सितंबर को लगने जा रहा है। जिसमें करीब 395 पदों पर भर्ती होगी।