Home Header News देवेंद्र फडणवीस की “हत्यारी” पुलिस ?

देवेंद्र फडणवीस की “हत्यारी” पुलिस ?

169
0
SHARE
 
कानून व्यवस्था पर नकेल कसी रहे इसलिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने गृह मंत्रालय अपने पास ही रखा, भले ही फडणवीस पांच साल पूरा करने वाले प्रदेश के दूसरे सीएम हो लेकिन पांच साल पूरा होते ही मुंबई की पुलिस जो सीधे सीएम के अधीन आती हो उसपर ऐसा दाग लगा कि महाराष्ट्र में एक बार फिर से उत्तर भारतीय राजनीति सक्रिय हो गई। पुलिस हिरासत में हुई विजय सिंह की मौत की वजह से महाराष्ट्र के सभी बड़े उत्तर भारतीय नेता महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस से इंसाफ की गुहार लगाती हुई नजर आयी।
वडाला पुलिस स्टेशन की हिरासत में हुई विजय सिंह की मौत के मामले ने न सिर्फ तूल पकड़ा बल्कि उत्तर भारतीय नेताओं ने मुंबई पुलिस कमिश्नर से लेकर मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस तक के दरवाजे खटखटाए हैं। इनकी मांग है विजय सिंह की पिटाई करने वाले पुलिस कर्मियों पर हत्या का मामला दर्ज किया जाए और इसकी न्यायिक जांच कराई जाए। पीड़ित परिवार को 10 लाख रुपये मुआवजा देने की भी मांग की गई।
पुलिस के खिलाफ मंगलवार को धरना-मोर्चा प्रदर्शन दिया गया। उत्तर भारतीय नेता पूर्व गृह राज्य मंत्री कृपाशंकर सिंह, नसीम खान, अबू आसिम व अन्य लोग आए। राज्य के पूर्व गृह राज्यमंत्री कृपाशंकर सिंह ने कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने खुद बात की है। दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का आश्वासन मुख्यमंत्री ने दिया है। कृपाशंकर सिंह ने भी पीड़ित परिवार से मुलाकात कर परिवार को भरोसा दिलाया कि सरकार दोषियों के खिलाफ सख्त कार्यवायी करेगी।
इस मामले में पांच पुलिसकर्मियों को निलंबित भी कर दिया गया है और मंगलवार को उस कपल के खिलाफ भी पुलिस ने एफआईआर दर्ज की है जिसने विजय सिंह की शिकायत की थी, कपल का आरोप है कि विजय ने अपने बाइक की लाइट लड़की के मुंह पर मारी, इसी बात को लेकर दोंनो में हाथापाई हो गई। इतने में मौके पर पहुंची पुलिस दोनों को थाने ले गई, पुलिस स्टेशन में लड़की की शिकायत पर शिकायत दर्ज की गई। मृतक के परिवार का आरोप है कि पुलिस ने विजय को पीटा जिसकी वजह से उसकी मौत हो गई। विजय सिंह एक दवा कंपनी में एमआर के रूप में काम करता था, उसे एक हमले के संबंध में पूछताछ के लिये हिरासत में वडाला ट्रक टर्मिनस थाने में रखा गया था, इस दौरान उसकी मौत हो गई, मृतक के परिवार के सदस्यों और दोस्तों का आरोप है कि पुलिस हिरासत में उसकी पीट-पीटकर हत्या की गई, ऐसे में देवेंद्र फडणवीस की पुलिस सवालों के घेरे में है।