Home हिन्दी फ़ोरम उत्तराखंड – अब एक रुपये में मिलेगा पानी का कनेक्शन 

उत्तराखंड – अब एक रुपये में मिलेगा पानी का कनेक्शन 

54
0
SHARE
 
पानी की एक एक बूंद की कीमत हर प्यासे को बखूबी पता होता है, रेगिस्तान में पानी के एक घडे की तलाश में पूरा का पूरा दिन निकल जाता है, कहावत है कि “जल है तो कल है” ऐसे में उत्तराखंड सरकार की पानी को लेकर ये पहल बेहद ही सराहनीय है। हर घर को नल से जल देने के लिए जल जीवन मिशन के तहत ग्रामीण इलाकों में पानी का कनेक्शन सिर्फ 1 रुपए में दिया जाएगा। उत्तराखंड सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट मीटिंग में यह फैसला लिया गया। देश में इस तरह का कदम उठाने वाला यानि सिर्फ एक रुपये में पेयजल कनेक्शन मुहैया कराने वाला उत्तराखंड पहला राज्य है।

उत्तराखंड में 15 लाख गरीब लोगों को एक रुपये में पानी का कनेक्शन

अबतक ग्रामीण क्षेत्रों में पानी के कनेक्शन के लिए 2350 रुपये देने होते थे जिससे आम आदमी के लिए मुश्किल हो रहे थे, लेकिन उत्तराखंड सरकार के इस योजना के अंतर्गत गांवों में पानी का कनेक्शन एक रुपये में दिया जाएगा। उत्तराखंड में जल जीवन मिशन के तहत राज्य के 15,647 गांवों में 1509,758 परिवारों तक पीने का स्वच्छ पानी पहुंचाया जाएगा। इस अभियान के लिए उत्तराखंड जल संस्थान, स्वजल और उत्तराखंड पेयजल निगम को कार्यदायी एजेंसी बनाया गया है। कुल 3806 राजस्व गांवों में 361654 परिवारों के घर में नल पहुंचाने का दारोमदार उत्तराखंड जल संस्थान का है। स्वजल 2078 राजस्व गांवों के 235994 परिवारों के घरों तक पीने का स्वच्छ पानी पहुंचाएगा। पेयजल निगम के पास सबसे अधिक 9754 राजस्व गांवों के 911953 परिवारों तक पानी पहुंचाने का जिम्मा है।

जल जीवन मिशन 2024 तक होगा पूरा

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने हर गरीब के कल्याण की योजना बनाई है। जिनमें जल जीवन मिशन के तहत 2024 तक हर घर को नल देने की योजना भी है। नल देने का मतलब पीने का स्वच्छ पेयजल देना है। जिसमें मानक के हिसाब से पानी उपलब्ध कराना है। जल जीवन मिशन के लिए 1565 करोड़ मंजूर हुए हैं। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र ने जल जीवन मिशन के तहत होने वाले कामों को शीर्ष प्राथमिकता में रखा है।  2024 से पहले ग्रामीण क्षेत्रों में हर घर में जल पहुंचाने के लिए हर साल का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। जिसमें पानी की उपलब्धता के साथ-साथ शुद्धता का भी पूरा ध्यान रखा जा रहा है।