Home हिन्दी फ़ोरम सीएसआर से बने बारात घर में गरीब बेटियों की होगी शादियां

सीएसआर से बने बारात घर में गरीब बेटियों की होगी शादियां

117
0
SHARE
सीएसआर से बने बारात घर में गांव की गरीब बेटियों की होगी शादियां
 
बड़े बड़े मैरेज हॉल में बड़ी शानो शौकत के साथ तो अमीर बेटियों की शादियां तो हो जाती है लेकिन एक गरीब घर की बेटी के लिए मैरेज हाल में शादी एक सपना होता है। अब गांव की गरीब बेटियों व अन्य की शादी गांव के बारात घर में होगी। गांव व आसपास के लोगों को महंगे होटल या फिर मैरेज हॉल बुक कराने की जरूरत नहीं पड़ेगी। ये संभव हो पा रहा है सीएसआर (CSR) से। उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले में सीएसआर फंड यानी कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी फंड की मदद से बारात घर बनाने की कवायद चल रही है।

सीएसआर की मदद से यूपी के प्रतापगढ़ में बनेगा बारात घर/कम्युनिटी सेंटर

दरअसल उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ जिले के पट्टी तहसील क्षेत्र के अंतर्गत मंगरौरा ब्लाक है। ब्लाक के अंतर्गत चंदीपुर गांव व इब्राहिमपुर गांव में बारात घर बनाने की लंबे अरसे से मांग ग्रामीण कर रहे थे। इन दोनों गांव में सामुदायिक केंद्र नहीं होने की वजह से ग्रामीणों को कोई भी सामुदायिक काम करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। ज्यादा तकलीफ गरीब लोगों को होती थी। गांव में कम्युनिटी सेंटर नहीं होने की वजह से गांव के लोगों ने स्थानीय सांसद से सामुदायिक केंद्र/बारात घर की मांग की। सांसद संगम लाल गुप्ता के प्रस्ताव पर Corporate Social Responsibility Fund से दो बारात घर बनाने का निर्णय लिया गया है।

बारात घर बनाने में सीएसआर के 62 लाख रुपये होंगे खर्च

ये बारात घर ग्राम सभा की खाली पड़ी जमीन पर बनेगी और उम्मीद है कि अगस्त महीने से इस पर काम शुरू हो जाएगा। घर बनने के बाद इसे ग्राम सभा को सुपुर्द किया जाएगा। उसकी देखरेख की जिम्मेदारी ग्राम सभा की होगी। उत्तर प्रदेश राज्य विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड के सीएसआर फंड (कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी फंड) से इसे बनाने की योजना है। और इसे पैकफेड (उत्तर प्रदेश विधायन एवं निर्माण सहकारी संघ) बनाएगा। एक बारात घर बनाने में करीब 26 लाख रुपये की लागत आ रही है। दोनों बारात घर बनाने में 62 लाख रुपये खर्च आ रहा है।

सीएसआर से बने कम्युनिटी सेंटर से गांव के लोगों को होंगी सहूलियतें

एक बारात घर ग्राम सभा की खाली पड़ी एक हजार 800 स्क्वायर फीट जमीन पर बनेगा। The CSR Journal से ख़ास बातचीत करते हुए प्रतापगढ़ जिले के सीएसआर नोडल अधिकारी दिनेश कुमार चौरसिया ने बताया कि ‘सीएसआर फंड से चंदीपुर व इब्राहिमपुर गांव में बारात घर बनाने की तैयारी चल रही है। इसमें सभी सुविधाएं होंगी, बड़ा हॉल, कमरा व अटैच बाथरूम भी होगा। घर बनने के बाद इसे ग्राम सभा को सुपुर्द किया जाएगा। ग्राम सभा ही इसकी निगरानी करेगी। बारात घर के बनने से गांव के लोगों को काफी सहूलियत मिलेगी।