Home Header News रिलायंस फाउंडेशन के वनतारा कार्यक्रम से जानवरों का होगा बचाव, संरक्षण और...

रिलायंस फाउंडेशन के वनतारा कार्यक्रम से जानवरों का होगा बचाव, संरक्षण और पुनर्वास

778
0
SHARE
रिलायंस फाउंडेशन के वनतारा कार्यक्रम से जानवरों का होगा बचाव, संरक्षण और पुनर्वास, देश में अपनी तरह का होगा पहला सेंटर
 
रिलायंस इंडस्ट्रीज और रिलायंस फाउंडेशन ने वनतारा (स्टार ऑफ द फॉरेस्ट) नामक एक कार्यक्रम की घोषणा की है। वनतारा देश विदेश में घायल और खतरे में पड़े जानवरों के बचाव, उपचार, देखभाल और पुनर्वास पर ध्यान केंद्रित करने की एक व्यापक पहल है। वनतारा सबसे बेहतरीन श्रेणी के पशु संरक्षण (Animal Conservation) और केयर प्रैक्टिस वाला ऐसा सेंटर है, जहां अत्याधुनिक हेल्थ केयर के साथ-साथ अस्पताल, रिसर्च सेंटर और शैक्षणिक केंद्र भी हैं। गुजरात में रिलायंस के जामनगर रिफाइनरी कॉम्प्लेक्स के ग्रीन बेल्ट के भीतर 3000 एकड़ में ये सेंटर फैला है। वनतारा का लक्ष्य विश्व स्तर पर संरक्षण प्रयासों में अग्रणी योगदानकर्ताओं में से एक बनना है। जानवरों की देखभाल और कल्याण में अग्रणी विशेषज्ञों के साथ काम करके, वनतारा ने 3000 एकड़ के विशाल स्थान को जंगल जैसे वातावरण में बदल दिया है। जानवरों की बचाई गई प्रजातियों के पनपने के लिए यह बिलकुल प्राकृतिक, समृद्ध, और हरा-भरा स्थान बन गया है।

रिलायंस के वनतारा में Animal Conservation, अस्पताल, रिसर्च सेंटर और शैक्षणिक केंद्र भी हैं

वनतारा, भारत में अपनी तरह का पहला इनिशिएटिव है, जिसे Reliance Industries Limited और Reliance Foundation के डायरेक्टर अनंत अंबानी (Anant Ambani) के नेतृत्व में संकल्पित और शुरू किया गया है। अनंत अंबानी जामनगर में रिलायंस के महत्वाकांक्षी रिन्यूएबल एनर्जी बिजनेस का भी नेतृत्व कर रहे हैं। 2035 तक नेट कार्बन जीरो कंपनी बनने की रिलायंस की यात्रा का नेतृत्व का बोझ भी उन्हीं के कंधों पर है। पिछले कुछ सालों में वनतारा कार्यक्रम के तहत 200 से अधिक हाथियों, और हजारों अन्य जानवरों, रेप्टाइल्स और पक्षियों को असुरक्षित स्थितियों से बचाया गया है। प्रोग्राम ने गैंडा, तेंदुआ और मगरमच्छ के पुनर्वास का इनिशिएटिव भी लिया है। इस अवसर पर बोलते हुए अनंत अंबानी ने बताया कि जो चीज मेरे लिए बहुत कम उम्र में एक जुनून के रूप में शुरू हुई थी, वह अब वनतारा और हमारे लिए ये एक मिशन बन गया है। हम भारत की गंभीर रूप से लुप्तप्राय प्रजातियों की रक्षा करने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। हम महत्वपूर्ण आवासों को बहाल करना और प्रजातियों के लिए तत्काल खतरों का समाधान करना चाहते हैं और वनतारा को एक अग्रणी संरक्षण कार्यक्रम के रूप में स्थापित करना चाहते हैं। हमें खुशी है कि हमारे प्रयासों को भारत और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता मिली है।

देश विदेश के जानवरों के हेल्थ केयर पर काम करेगा रिलायंस का वनतारा प्रोजेक्ट

भारत और दुनिया के कुछ शीर्ष जूलॉजिकल और चिकित्सा विशेषज्ञ हमारे मिशन में शामिल हुए हैं और हमें सरकारी निकायों, अनुसंधान और शैक्षणिक संस्थानों का सक्रिय सहयोग और मार्गदर्शन प्राप्त करने का सौभाग्य मिला है। वनतारा का लक्ष्य भारतीय चिड़ियाघर प्राधिकरण और अन्य संबंधित सरकारी संगठनों के साथ साझेदारी करना और भारत के सभी 150 से अधिक चिड़ियाघरों को बेहतर बनाने के लिए वहां प्रशिक्षण, क्षमता निर्माण और Animal Care के बुनियादी ढांचे पर काम करना है। Anant Ambani कहते हैं कि वनतारा आधुनिक वैज्ञानिक और तकनीकी व्यावसायिकता की उत्कृष्टता के साथ करुणा के सदियों पुराने नैतिक मूल्य का एक संयोजन है, मैं जीव सेवा (एनिमल केयर) को ईश्वर के साथ-साथ मानवता की सेवा के रूप में देखता हूं। वनतारा में हाथियों के लिए एक केंद्र है और यहां शेर और बाघ, मगरमच्छ, तेंदुए सहित कई अन्य बड़ी और छोटी प्रजातियों के लिए सुविधाएं हैं।

रिलायंस के Vantara Centre में क्या-क्या है सुविधाएं

जानवरों के लिए रेस्क्यू सेंटर ‘वनतारा’ में कौन-कौन सी सुविधाएं मौजूद हैं इसके बारे में बताते हुए अनंत अंबानी ने कहा जानवरों के लिए रेस्क्यू सेंटर ‘वनतारा’ में 6 सर्जरी सेंटर है। साथ ही रेस्क्यू सेंटर में पेशेंट वार्ड, MRI मशीनें और CT स्कैन की भी सुविधा है। रेस्क्यू सेंटर में रोबॉटिक सर्जरी मशीन और लैब भी है। अब तक हमने 25000 से ज्यादा जानवरों का रेस्क्यू किया है। आज जो भी जंगल बचे हुए हैं वह फॉरेस्ट अधिकारियों की वजह से बचे हुए हैं।

हाथी केंद्र (Elephant Centre) की विशेषताएं

वनतारा में एलिफेंट सेंटर 3000 एकड़ परिसर के एक बड़े हिस्से में फैला हुआ है, जिसमें अत्याधुनिक आश्रय स्थल, वैज्ञानिक रूप से डिजाइन किए गए दिन और रात के बाड़े, हाइड्रोथेरेपी पूल, जल निकाय और हाथियों में गठिया के इलाज के लिए एक बड़ा हाथी जकूज़ी है। यह 200 से अधिक हाथियों का घर है, जिनकी देखभाल पशु चिकित्सकों, जीवविज्ञानी, रोगविज्ञानी, पोषण विशेषज्ञ और प्रकृतिवादियों सहित 500 से अधिक लोगों का विशेष और प्रशिक्षित दल के कर्मचारियों द्वारा चौबीसों घंटे की जाती है। केंद्र में 25,000 वर्ग फुट का हाथी अस्पताल है, जो दुनिया के सबसे बड़े अस्पतालों में से एक है, जो पोर्टेबल एक्स-रे मशीनों, विविध उपचारों के लिए लेजर मशीनों, एक पूरी फार्मेसी, सभी परीक्षणों के लिए एक पैथोलॉजी, और एक आयातित हाथी निरोधक उपकरण से सुसज्जित है। इस सेंटर में 14000 वर्ग फुट से अधिक की एक विशेष रसोई है, जो प्रत्येक हाथी के लिए उनके ओरल हेल्थ सहित उनकी सबसे आवश्यक शारीरिक आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए एक क्यूरेटेड आहार तैयार करने के लिए समर्पित है।

बचाव एवं पुनर्वास केंद्र

अन्य जंगली जानवरों के लिए, जिन्हें सर्कस या भीड़भाड़ वाले चिड़ियाघरों में रखा गया है, 3000 एकड़ परिसर के भीतर ही 650 एकड़ से अधिक का एक बचाव और पुनर्वास केंद्र बनाया गया है, जहां भारत और दुनियाभर से संकटग्रस्त और खतरनाक वातावरण के जानवरों को बचाया जाता है और रखा जाता है। यह एक बहुत बड़ा बाड़ा और आश्रय स्थल है। लगभग 2100 से अधिक कर्मचारियों के साथ, बचाव और पुनर्वास केंद्र ने पूरे भारत से लगभग 200 तेंदुओं को बचाया है, जो सड़क दुर्घटनाओं या मानव-जंगली संघर्षों में घायल हुए हैं। केंद्र में 1 लाख वर्ग फुट का अस्पताल और चिकित्सा अनुसंधान केंद्र है. अस्पताल और अनुसंधान केंद्र के पास आईसीयू, एमआरआई, सीटी स्कैन, एक्स-रे, अल्ट्रासाउंड, एंडोस्कोपी, डेंटल स्केलर, लिथोट्रिप्सी, डायलिसिस, ओआर1 तकनीक के साथ सबसे उन्नत तकनीक है, जो सर्जरी और रक्त प्लाज्मा विभाजक के लिए लाइव वीडियो कांफ्रेंसिंग को सक्षम बनाती है।

रिलायंस के Vantara Centre से शिक्षा और जागरूकता

वन्य प्राणियों को लेकर लोगों विशेषकर युवाओं और बच्चों के बीच संरक्षण के मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए, वनतारा पहल में ज्ञान और संसाधन आदान-प्रदान सहित शैक्षणिक संस्थानों के साथ घनिष्ठ सहयोग की परिकल्पना की गई है। इसमें करुणा और देखभाल में नए मानक स्थापित करने वाले आधुनिक और भविष्य के, जलवायु नियंत्रित बाड़ों (Climate Controlled Enclosures) में कुछ जानवरों के लिए एक प्रदर्शन क्षेत्र के निर्माण की भी परिकल्पना की गई है। दृढ़ता से विश्वास करते हुए कि जानवरों का बचाव और संरक्षण साथ-साथ चलना चाहिए, वनतारा कार्यक्रम में रिलायंस रिफाइनरी क्षेत्रों की निरंतर हरियाली की भी परिकल्पना की गई है और पहले से ही हजारों एकड़ भूमि को हरा-भरा किया गया है।

रिलायंस के वनतारा को लेकर अनंत की ये है सोच

वनतारा को लेकर Anant Ambani कहते है कि हमने एक पूरा सेवालय बनाया है जहां निस्वार्थ भाव से जानवरों की सेवा की जाती है। हम जानवरों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं ताकि हम एक दिन उन्हें दोबारा जंगलों में छोड़ पाएं। हम नॉन प्रॉफिट एप्रोच के तहत जानवरों की सेवा करेंगे। दादा धीरूभाई अंबानी (Dhirubhai Ambani), दादी कोकिलाबेन अंबानी, पिता जी मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani), माता नीता अंबानी (Nita Ambani) और उनके भाई-बहन, सभी उनके प्रेरणा के स्रोत हैं। अनंत अंबानी ने कहा कि मैं दिन में 1 से दो घंटे जानवरों के साथ रहता हूं और पापा के साथ भी काम करना होता है। राधिका मर्चेंट (Radhika Merchant) को भी मेरी तरह जानवरों से प्रेम है।