Home हिन्दी फ़ोरम सीएसआर से मिले मेडिकल उपकरणों का हो सही रखरखाव

सीएसआर से मिले मेडिकल उपकरणों का हो सही रखरखाव

197
0
SHARE
सीएसआर से मिले मेडिकल उपकरणों का हो सही रखरखाव - उत्तराखंड सीएम
 
आपदा में अवसर तलाशने की बात देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने क्या कही कोरोना आपदा में हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को और बेहतर बनाने का एक अवसर मिल गया। साल 2020 के पहले हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर पर इतना जोर नहीं दिया जाता है। देश की स्वास्थ्य सेवाएं ठीक नहीं थी लेकिन कोरोना महामारी ने ना सिर्फ सरकार की आंखें खोल दी बल्कि लोग स्वास्थ्य पर ज्यादा ध्यान देने लगे। कोरोना के आपातकाल में हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को बेहतर बनाने में सीएसआर ने हर संभव मदद किया। कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी फंड की मदद से देश भर में वेंटिलेटर्स, ऑक्सीजन, आईसीयू बेड्स, अत्याधुनिक अस्पताल की सुविधाएं की गयी।

सीएसआर से मिले मेडिकल उपकरणों का हो सही तरिके से रखरखाव – उत्तराखंड सीएम

लेकिन जैसे ही कोरोना की पहली वेव का प्रकोप खत्म हुआ वैसे ही लापरवाही फिर शुरू हो गयी। यहां तक जो भी मेडिकल उपकरण सीएसआर के तहत ख़रीदे या फिर कॉरपोरेट्स द्वारा दिया गया था उसको ऐसे ही बिना इस्तेमाल के छोड़ दिया गया। Corporate Social Responsibility फंड से मिले ये उपकरण खराब होते चले गए। ऐसे में उत्तराखंड के नवनियुक्त मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अपने सरकारी अधिकारियों को हिदायत दी है कि इन उपकरणों का सही और व्यापक इस्तेमाल हो। इसके साथ ही CSR से मिले इन मेडिकल उपकरणों (Medical Equipment) का सही तरीके से रखरखाव भी हो।

सीएसआर की मदद से देश भर में ख़रीदे गए मेडिकल उपकरण

पीएम केयर्स फंड और सीएसआर की मदद से देश भर में लाखों वेंटिलेटर्स खरीदे गए। कोरोना की पहली लहर का ज़ोर कम होने के बाद वेंटिलेटर की ख़रीद में ढील भी देखने को मिली ,इसके साथ ही इस्तेमाल भी कम होने और कहीं प्रशिक्षित स्टाफ नहीं, कहीं वायरिंग खराब, कहीं एडॉप्टर व सही ढंग से रखरखाव नहीं होने की वजह से बिहार, यूपी, उत्तराखंड, छत्तीसगढ़, राजस्थान जैसे राज्यों के कई अस्पतालों में पीएम केयर्स के वेंटिलेटर धूल खा रहे हैं और तो और कई जगहों से ये भी शिकायतें हैं कि वेंटिलेटर्स ठीक से काम नहीं कर रहा है।

कोरोना की तीसरी लहर को लेकर उत्तराखंड की धामी सरकार तैयारियों में जुटी

कोरोना की तीसरी लहर (Covid Third Wave) को लेकर उत्तराखंड की धामी सरकार तैयारियों में जुट गई है। तीसरी लहर में बच्चों को ज्यादा खतरा होने की आशंका के चलते सीएम ने बच्चों के लिए अलग से वॉर्ड बनाने के निर्देश दिए हैं। सचिवालय में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी (CM Pushkar Dhami) ने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए की गई व्यवस्थाओं की समीक्षा बैठक की। बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने कोरोना टीकाकरण को जरूरी बताया और टेस्टिंग पर भी ध्यान दिए जाने के निर्देश दिए। सीएम ने अधिकारियों से कहा कि वे पीएम केयर्स फंड और कंपनियों से कॉरपोरेट सामाजिक जिम्मेदारी (सीएसआर) के योगदान के तहत राज्य को उपलब्ध कराए गए चिकित्सा उपकरणों के रखरखाव पर विशेष ध्यान दें।