Home हिन्दी फ़ोरम कोरोनावायरस के खौफ से महाराष्ट्र में खलबली 

कोरोनावायरस के खौफ से महाराष्ट्र में खलबली 

9
0
SHARE
कोरोनावायरस का खौफ, महाराष्ट्र में खलबली  
 

कोरोनावायरस का खौफ – महाराष्ट्र में खलबली

जब तक ये ख़बर आप पढ़ रहे होंगे तब तक महाराष्ट्र में कोरोनावायरस के नए मामले सामने आ जायेंगे, महाराष्ट्र राज्य में कोरोनावायरस विकराल रूप अख्तियार कर रही है, लगातार कोरोनावायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या महाराष्ट्र में बढ़ रही है, पूरे देश में राज्यों की तुलना करें तो महाराष्ट्र कोरोना से संक्रमित के मामले में अव्वल है यही कारण है कि ना सिर्फ राज्य सरकार बल्कि केंद्र सरकार भी महाराष्ट्र में बढ़ते मामलों को देखते हुए चिंतित है। महाराष्ट्र से पुणे और मुंबई ये दो महानगर सबसे ज्यादा प्रभावित है। और दोनों महानगर होने के नाते यहां की स्तिथि पर लगातार केंद्र सरकार के साथ साथ महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एहतियाद बरतने को लेकर लोगों से अपील कर रहे है। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई और सबसे ज्यादा प्रभावित महाराष्ट्र सरकार की मदद कर ने लिए सीएसआर और कॉर्पोरेट जगत भी सामने आया है।

कोरोनावायरस से बचने के लिए महाराष्ट्र सरकार की अपील, सीएसआर से मदद करें कॉर्पोरेट्स

कोरोना से लड़ने के लिए महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने सह्याद्री गेस्ट हाउस में विविध कॉर्पोरेट कंपनियों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक की और महाराष्ट्र में फैले कोरोना की जानकारी दी। कॉर्पोरेट के प्रतिनिधियों से बैठक में सरकार की मदद करने के लिए भी अपील की। स्वास्थ्यमंत्री ने इन कॉर्पोरेट्स से कंपनियों के सोशल कॉर्पोरेट रिस्पांसिबिलिटी यानि सीएसआर की मदद से मास्क, सैनेटाझर्स, पीपीई कीट, वेंटीलेटर्स, सरकार को उपलब्ध कराने की बात कही। सरकार की इस अपील को मानते हुए सीएसआर के तहत कॉर्पोरेट्स ने मदद की पेशकश भी की है। मरीजों के आयसोलेशन के लिए सुविधा भी उपलब्ध कराने के संदर्भ में इन कंपनियों के प्रतिनिधियों ने इच्छा दर्शायी। जो दवाइयाँ अत्यावश्यक है, वह भी दवाइयाँ कंपनियों के ओर से नि:शुल्क उपलब्ध कराने की बात कॉर्पोरेट्स द्वारा की गयी है। कोरोना से लड़ने के लिए प्रचार प्रसार कर ने लिए भी ये निजी कंपनियां CSR फंड का इस्तेमाल करेंगी

महाराष्ट्र में 2 और मिले कोरोना पॉजिटिव, देश में अब तक 177 लोग संक्रमित

महाराष्ट्र में कोरोना के दो और नए केस सामने आए हैं, जिसके बाद राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या 49 हो गई है। वहीं, देशभर में कुल 177 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हैं। ऐसे में महाराष्ट्र सरकार ने कई ऐसे एहतियात के कदम उठाये है जिससे कोरोनावायरस के रोकथाम के लिए कारगर सिद्ध हो सकते है। पुणे और मुंबई में स्थिति काफी संवेदनशील है। मुंबई में मंगलवार को कोरोना संक्रमित एक 64 वर्षीय बुजुर्ग की मौत भी हो गई। महाराष्ट्र सरकार और स्वास्थ्य विभाग में खलबली मची हुई है। बैठकों का दौर जारी है और हर स्तर से कोरोना को फैलने से रोकने के इंतजाम किया जा रहा है।

जानें महाराष्ट्र में कौन कौन सी सर्विसेस बंद है

मुंबई के मशहूर डब्बेवालों ने अपनी सर्विस गुरुवार से रोक दी है वही कोरोनावायरस के चलते मुंबई के कई हर वक्त गुलजार रहने वाले इलाकों में अब गिनती के लोग ही नजर आ रहे हैं। क्रॉफर्ड मार्केट, दादर फूल मार्केट, शिवाजी पार्क और चर्चगेट स्टेशन से हॉकर्स भी गायब हो गए हैं। वहीं लोकल ट्रेन और मेट्रो स्टेशनों पर भी ऑफिस टाइम को छोड़कर भीड़ कम ही नजर आ रही है।

कोरोनावायरस का कहर भारतीय रेल पर भी

करोनावायरस का कहर भारतीय रेल पर भी टूट रहा है। यात्रियों की सुरक्षा को देखते हुए सेंट्रल और वेस्टर्न रेलवे भी बड़े पैमाने पर एहतियात बरत रही है। मुंबई की लोकल पूरे देश में अपनी भीड़ के लिए जानी जाती है, भीड़ भाड़ को रोकने के लिए रेलवे द्वारा कई प्रयास किये जा रहे है। दोनों ही रूटों पर एसी लोकल को बंद किया गया है वही प्लेटफार्म टिकट की कीमतों में भी इजाफा किया गया है। देश के करीब 250 स्टेशनों पर प्लेटफॉर्म टिकट की कीमतें पांच गुना हो गई हैं. रेलवे ने इनका दाम 10 रुपये से बढ़ाकर 50 रुपये कर दिया है. कोरोना वायरस के चलते स्टेशनों पर भीड़ कम करने के लिए रेलवे ने यह कदम उठाया है। देश की पहली प्राइवेट ट्रेन – तेजस एक्‍सप्रेस पर ब्रेक लगा दिया गया है। इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्‍म कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने पर्यटन मंत्रालय के सुझाव पर यह फैसला किया है। IRCTC के अनुसार, लखनऊ-दिल्‍ली और अहमदाबाद मुंबई के बीच चलने वाली तेजस एक्‍सप्रेस ट्रेनें 31 मार्च तक कैंसिल रहेंगी।
कोरोना के प्रकोप से बचने के लिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कई फैसले किए हैं। इसमें दफ्तरों में सरकारी कर्मचारियों की मौजूदगी 50 प्रतिशत किए जाने से लेकर वर्क फ्रॉम होम और दुकानों के समय में बदलाव किया गया है। इस बारे में लोकल कॉर्पोरेशनों को समय तय करने का अधिकार दिया गया है। बीएमसी ने देर रात सर्कुलर जारी करके दुकानों को एक दिन खुला और एक दिन बंद रखने का आदेश दिया है। इससे आधी मुंबई बंद हो जाएगी।
इसके अलावा, बेस्ट की बसों में सिर्फ बैठकर यात्रा करने की इजाजत रहेगी। एसटी और प्राइवेट बसों को 50 प्रतिशत क्षमता तक ही यात्रियों को टिकट देने का का सुझाव दिया गया है। सरकारी कार्यालयों में 50 प्रतिशत कर्मचारियों की छुट्टी करने का निर्देश दिया है।

कालाबाजारी पर होगी सख़्त कार्यवाई

कोरोनावायरस को देखते हुए जीवनावश्यक वस्तुओं की कालाबाजारी प्रतिबंध और सुचारू आपूर्ति अधिनियम 1980 में दिए गए प्रावधानों के अनुसार जमाखोरी और कालाबाजारी करनेवाले के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। अन्न आपूर्ति और ग्राहक संरक्षण मंत्री छगन भुजबल ने बताया कि वर्तमान स्थिति में राज्य में कोरोना का प्रकोप है, इससे जीवनावश्यक वस्तुओं की किल्लत या जीवनावश्यक वस्तु अधिक भाव से बिक्री होने की संभावना है। जिसको रोकने के लिए सरकार की ओर से कड़े कदम उठाए जा रहे है।
कोरोना आपदा के लिए विभागीय आयुक्त को 45 करोड़ का निधि दिया गया है। कोरोनावायरस को नियंत्रित करने के लिए कोकण विभाग को 15 करोड़, पुणे विभाग को 10 करोड़, नागपूर विभाग को 5 करोड़, अमरावती विभाग के लिए 5 करोड़, औरंगाबाद के लिए 5 करोड़, नाशिक के लिए 5 करोड़ ऐसे कुल 45 करोड़ का निधि वितरित किया गया है। इन रुपयों का इस्तेमाल डिविजनल कमिश्नर मरीजों के लिए खर्च किये जायेंगे।