Home Authors Posts by Rahuldeo Sharma

Rahuldeo Sharma

298 POSTS 0 COMMENTS

एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट में पिरामल फाउंडेशन करेगा 100 करोड़ का निवेश

कोरोना के आपातकाल से एक और राहत की ख़बर आयी है, ये ख़बर पिरामल फाउंडेशन की तरफ से आयी है। पिरामल एंटरप्राइजेज लिमिटेड की परोपकारी संस्था पिरामल फाउंडेशन (पीईएल) ने कोरोना की दूसरी लहर के विनाशकारी प्रभाव को दूर करने के लिए महत्वपूर्ण पहल की है। देश की थिंक टैंक यानी निति आयोग (Niti...

कोरोना लड़ाई में विकसित जिलों से आगे है एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट

कोरोना महामारी ने हर एक जिंदगी को प्रभावित किया है, कोई अपनों को खो दिया तो किसी की नौकरी चली गयी, कोई खाने के लिए मोहताज़ हो गया तो कोई दुश्वारियों से घिर गया। पहली लहर से कही ज्यादा खतरनाक दूसरी लहर है। क्या बुजुर्ग, क्या नौजवान, क्या बच्चें हर उम्र के लोग कोरोना...

कोरोना से जान गंवाने वाले कर्मचारियों के परिवार वालों को राहत

जहां कोरोना एक तरफ कहर बनकर टूटा है, जहां हर तरफ मायूसी छायी है, मौतों का आकड़ा बढ़ रहा है, ज्यादातर लोग कोरोना से प्रभावित हो रहे है। लोगों की नौकरियां जा रही हैं और साथ ही घर में कमाने वाले व्यक्ति की मौत होने की वजह से परिवार के ऊपर दुखों का पहाड़...

बीमार स्वास्थ्य व्यवस्था का इलाज अब सीएसआर से

स्वास्थ्य सुधारता सीएसआर, हेल्थ पर होता है इतना खर्च देश को आजाद हुए 74 साल बीत गए लेकिन आज भी यहां आम जनमानस की मौत मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया जैसी बीमारियों से भी हो जाती है। सीजनल बीमारियों से ही हमारे देश के अस्पताल प्रेशर में आ जाते है। जब इन आम बीमारियों से ही हमारा...

सरकार के इस फैसले से उत्तराखंड में होगा ज्यादा सीएसआर खर्च

उत्तराखंड में सीएसआर के लिए कंपनियों की होगी पहचान कोरोना महामारी में सरकारों के साथ खड़ी देश की कॉर्पोरेट कंपनीज ने यूं तो कोरोना से निपटने के लिए कई उपाय और राज्य और केंद्र सरकार के साथ मिलकर काम कर रही है। महामारी के दौरान कॉर्पोरेट्स आर्थिक मदद के साथ साथ ऑक्सीजन, दवाईयों, अस्पताल बनाने...

ये है देश के टॉप राज्य जहां होता है सबसे ज्यादा सीएसआर खर्च

ये है वो राज्य जहां होता है सबसे ज्यादा सीएसआर खर्च (Top States in CSR Expenditure) देश में बड़े पैमाने पर सीएसआर के तहत विकास के काम हो रहे है। खासकर ऐसे वक़्त में जब देश में महामारी है और इस आपातकाल में हेल्थकेयर और हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर बिलकुल चरमारा सी गयी है लेकिन कॉर्पोरेट सोशल...

कोरोना ने बढ़ाई थैलेसीमिया मरीजों की मुश्किलें

कोरोना के इस आपातकाल में खून की एक एक बूंद उन पेशेंट के लिए जीवनदान है जो थैलेसीमिया बीमारी से ग्रसित है। थैलेसीमिया मरीजों को नियमित रूप से खून चढाने की जरुरत पड़ती है। और इस कोरोना काल में खून की बेहद कमी हो गयी है। लिहाजा थैलेसीमिया बीमारी से पीड़ित मरीजों को कोरोना...

ऑक्सीजन पर खर्च सीएसआर माना जायेगा – MCA

ऑक्सीजन की भारी किल्लत को देखते हुए मिनिस्ट्री ऑफ़ कॉर्पोरेट अफेयर्स ने एक बहुत ही महत्वपूर्ण फैसला लिया है। मिनिस्ट्री ऑफ़ कॉर्पोरेट अफेयर्स ने एक सर्कुलर जारी करते हुए कहा है कि अब ऑक्सीजन के प्रोडक्शन में होने वाला खर्च, कॉर्पोरेट्स का सीएसआर खर्च (CSR Expenditure) माना जायेगा। इसके पहले भी मिनिस्ट्री ऑफ़ कॉर्पोरेट...

ऑक्सीजन की किल्लत में आगे आये Cooperatives और Corporates

कोरोना महामारी के समय ऑक्सीजन की डिमांड बहुत बढ़ गई है। जिससे ऑक्सीजन की किल्लत हो रही है। एक आकड़ों की माने तो कोरोना महामारी की वजह से अस्पतालों और स्वास्थ्य सुविधाओं में ऑक्सीजन की मांग लगभग दस गुना बढ़ गई है। कोरोना के मामलों में तेजी से वृद्धि के साथ, गंभीर संक्रमण वाले...

रिलायंस का मिशन ऑक्सीजन, अंबानी खुद रख रहे हैं निगरानी

मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड अपनी जामनगर तेल रिफाइनरी में प्रतिदिन 1000 टन से अधिक मेडिकल-ग्रेड ऑक्सीजन का उत्पादन कर रहा है। यह ऑक्सीजन कोविड-19 से बुरी तरह प्रभावित राज्यों को मुफ्त में दी जा रही है। रिलायंस आज भारत की करीब 11% मेडिकल ग्रेड ऑक्सीजन का उत्पादन कर रहा है और...

मजदूर दिवस – कोरोना में कौन लेगा मजदूरों की सुध?

हम हर साल 1 मई को मजदूर दिवस मानते है। 1 मई को मजदूरों के हक़ की बात करते है। हम मजदूरों के हितों की सुरक्षा की बात करते है। लेकिन जैसे ही ये विशेष दिवस खत्म, मजदूरों के हक़ की बात खत्म, मजदूरों के हितों की बात ख़त्म। कोरोना मजदूरों के लिए अभिशाप...
Dr. Nirmal Gujarathi

कोरोना वैक्सीन लगवाने जा रहें हैं? ये जरूर पढ़ें

कोरोना की इस जंग में 1 मई का दिन बहुत ही महत्वपूर्ण है। क्योंकि 18 साल से ज्यादा की उम्र के लोगों को आज 1 मई से टीका लगने की शुरुआत हो चुकी है। टीकाकरण की आज पूरे देश भर में शुरुआत हुई है। बड़े पैमाने पर युवा वर्ग विश्व के सबसे बड़े टीका...

हिंदी मंच

EDITOR'S PICK