Home हिन्दी फ़ोरम विद्यांजलि से सीएसआर की राह आसान, सवरेंगे यूपी के स्कूल

विद्यांजलि से सीएसआर की राह आसान, सवरेंगे यूपी के स्कूल

47
0
SHARE
 
उत्तर प्रदेश की योगी सरकार लगातार अपने फैसले से यूपी की तस्वीर बदलने में जुटी है। चाहे निवेश हो या फिर कोई अन्य पहल, सीएम योगी आदित्यनाथ खुद अपनी निगरानी में मोर्चा संभालते हैं। अब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था पर जोर दे रहे हैं। सीएम योगी शिक्षा में सीएसआर का महत्व बखूबी जानते हैं इसलिए शिक्षा में क्रांतिकारी बदलाव लाने के लिए यूपी सरकार ने एक ऐसा वेब पोर्टल लांच किया है जिससे (Education In UP) यूपी के प्राथमिक स्कूलों की तस्वीर बदलने जा रही है।

सीएसआर से सवरेंगी यूपी के सरकारी स्कूलों की व्यवस्था

यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार अपने दूसरे कार्यकाल में उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh News) की शिक्षा व्यवस्था को दुरुस्त करने के लिए प्रयासरत है। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ का बेसिक और उच्‍च शिक्षा के स्तर को सुधारने पर फोकस है। इसके लिए सरकार ने कई योजनाएं भी शुरू की हैं। जिसे आसानी से सभी बच्‍चों को शिक्षा प्राप्त हो सके। यूपी में प्राथमिक विद्यालयों का कायाकल्प करने के लिए विद्यांजलि कायाकल्प पोर्टल लांच हुआ है जिसे एजुकेशन सेक्टर में मजबूत हथियार साबित होगा।

यूपी के स्कूलों में होगा सीएसआर

मुख्यमंत्री योगी ने एक अगस्त को विद्यांजलि कायाकल्प पोर्टल का लोकार्पण किया था। इसके तहत कोई भी व्यक्ति, संस्थान, NGO या फिर कॉरपोरेट (Corporate) पोर्टल के माध्यम से परिषदीय विद्यालयों (Government School in Uttar Pradesh) को गोद ले सकता है, सीएसआर के तहत Education Initiatives कर सकता है। पहले किसी स्कूल को दान देने के लिए जिलाधिकारी के माध्यम से कार्रवाई की जाती थी। इसमें लंबा समय लगता था, जिसके चलते आम आदमी इससे बचता था। ऐसे में योगी सरकार द्वारा संचालित पोर्टल से परिषदीय विद्यालयों को नई गति मिल रही है।

सीएसआर के तहत तीन साल के लिए गोद लेंगे Corporates

विद्यांजलि कायाकल्प पोर्टल के माध्यम से सरकारी अधिकारी, मंत्री, विधायक, जनप्रतिनिधि, आम आदमी, एनजीओ, कॉरपोरेट, विद्यालय के पूर्व छात्र, उनका परिवार परिषदीय, सरकारी प्राइमरी स्कूल को गोद ले सकेगा। साथ ही पोर्टल के माध्यम से आर्थिक सहायता दे सकेंगे। वहीं Corporate सीएसआर फंड (CSR Funds) के माध्यम से विद्यालय को गोद ले सकेंगे। पोर्टल के माध्यम से स्कूलों को तीन साल के लिए गोद लेना होगा।

उत्तर प्रदेश में विद्यांजलि से शिक्षा के स्तर में होगा सुधार (Education in UP)

पोर्टल की पारदर्शिता बनाए रखने के लिए जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जिला स्तर पर समिति का गठन किया गया है। दानदाता विद्यांजलि कायाकल्प पोर्टल पर जाकर अपने मनचाहे स्कूल को चयनित करेंगे। दानदाता ऑपरेशन कायाकल्प के तहत होने वाले कामों के अलावा स्ट्रीट लाइट, सोलर आरओ प्लांट, अग्निशमन यंत्र, ओपन जिम, झूले-स्लाइडर, कंप्यूटर लैब, विज्ञान प्रयोगशाला का निर्माण-जीर्णोद्धार, विज्ञान प्रयोगशाला के उपकरण, स्टेशनरी, लाइब्रेरी के लिए किताबें आदि दी जा सकती हैं।