Home हिन्दी फ़ोरम दिव्यांगजनों को सशक्त बनाएगी टाटा पावर

दिव्यांगजनों को सशक्त बनाएगी टाटा पावर

184
0
SHARE
दिव्यांगजनों को सशक्त बनाएगा टाटा पावर
 
दिव्यांग, हमारे समाज के वो विशेष लोग है जिनकी क्षमता को और बल देने का काम हमारी टेक्नोलॉजी कर रही है। बस जरूरत है ये अत्याधुनिक तकनीक उन दिव्यांगजनों तक पहुंचे। दिव्यांगजनों के लिए तकनीक ना सिर्फ उनकी जिंदगी को आसान बना देती है बल्कि वो लोग कम्युनिटी के साथ मिलकर समाज में एक अलग ही छाप छोड़ते है। टाटा पावर कम्युनिटी डेवलपमेंट ट्रस्ट ने दिव्यांगजनों के लिए नए युग के तकनीकी समाधानों को प्रदर्शित करने वाला एक अनूठा Tata Power’s ‘Pay Autention’ एक्सपो आयोजित किया जहां दिव्यांगजनों के लिए तकनीक के सहारे उन्हें सशक्त बनाने की राह प्रशस्त किया गया।

टाटा पावर ने आयोजित किया ‘Pay Autention’ एक्सपो ताकि दिव्यांगजनों को किया जा सके सशक्त

टाटा पावर कम्युनिटी डेवलपमेंट ट्रस्ट ने समावेशी समाज को बढ़ावा देने के लिए दिव्यांगजनों के लिए न्यू एज टेक एक्सपो का प्रदर्शन किया जहां 13 नए जमाने के इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी को दिखाया गया जो इन विशेष व्यक्तियों को मुख्यधारा में बेहतर एकीकृत करने और अधिक समग्र जीवन जीने में मदद करेगा और इसे जल्दी ही महाराष्ट्र, दिल्ली-एनसीआर, झारखंड, ओडिशा, उत्तर प्रदेश और गुजरात के क्षेत्रों में और विस्तारित किया जाएगा।
टाटा पावर पहले से ही Pay Autention नामक एक मुहिम चला रही है जिसके तहत ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर (Autism Spectrum Disorder) पर देश भर में एक अवेयरनेस लाने की कोशिश कर रही है। ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसऑर्डर (Autism Spectrum Disorder) न्यूरो डेवलपमेंटल डिसऑर्डर है जिसकी गंभीरता अलग-अलग होती है। इसके कई लक्षण होते है। जैसे पीड़ित को समाज में लोगों से बातचीत करने के चुनौती आती है, और वे अपने व्यवहार को सीमित रखते हैं या फिर बार-बार वही व्यवहार दोहराते हैं। इसके लक्षण आमतौर पर बचपन से दिखना शुरू हो जाते है और पीड़ित के पूरे जीवनकाल में बने रहता है।

पूरे देश भर में 13 करोड़ लोग शारीरिक एवं मानसिक विकलांगता के शिकार है

पूरे देश भर में 13 करोड़ लोग शारीरिक एवं मानसिक विकलांगता के शिकार है। ये दिव्यांगन कुल 21 प्रकार के है। इन सभी लोगों को सशक्त बनाने के लिए टाटा पावर सभी इस फील्ड में काम करने वाली तकनीकी कंपनियों को एक साथ लाकर समाज में जागरूकता लाने की कोशिश में है ताकि तकनीक का सहारा लेकर ये सभी दिव्यंजन समाज के साथ चलकर कंधे से कंधा मिलाकर चल सकें। Tata Power’s ‘Pay Autention’ एक सीएसआर (CSR Initiative by Tata Power) पहल है जिसके तहत जरूरतमंद दिव्यंजनों की जरूरतों को पूरा किया जाता है और मानसिक, शारीरिक और आर्थिक तौर पर उनकी मदद की जाती है।

टाटा पावर (Tata Power) एक्सपो में प्रदर्शित किया गया ये तकनीक

पूरे देश भर में 2.5 करोड़ लोग ठीक ढंग से बातचीत नहीं कर सकते है, कुछ तोतले तो कुछ हकले है, इनको स्पीच थेरेपी से ठीक किया जा सकता है। 2.5 करोड़ पीड़ित में से महज 6 हज़ार ही स्पीच थेरेपिस्ट है। ये स्पीच थेरेपिस्ट महज बड़े शहरों में ही मौजूद है ऐसे में छोटे शहरों के पीड़ित को स्पीच थेरेपी मिल ही नहीं पाती ऐसे में ऑनलाइन के जरिये इस कमी को पूरा किया जा रहा है। वहीं सोनार तकनीक की मदद से दृष्टिहीन व्यक्तियों के लिए एक ऐसी छड़ी को बनाया गया है जो ऑब्स्ट्रिकल्स आते ही छड़ी वाइब्रेट करेगा। इसके साथ ही एक ऐसे ऐप को विकसित किया गया है जहां टैलेंटेड दिव्यंजनों के कला को एक मंच पर लाया गया है। ऑटिज्म स्पेक्ट्रम से संबंधित एवं दिव्यांगता के लाइव सपोर्ट के लिए आप टोल फ्री नंबर 18002099499 पर भी संपर्क कर सकते हैं।