Home हिन्दी फ़ोरम रांची डीसी ने की सीएसआर समीक्षा, स्वास्थ्य सेवाओं पर दिया जोर

रांची डीसी ने की सीएसआर समीक्षा, स्वास्थ्य सेवाओं पर दिया जोर

15
0
SHARE
 
एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट रांची के नए नियुक्त डिप्टी कमिश्नर छवि रंजन एक्शन में दिख रहें है, सीएसआर को लेकर रांची डीसी ने गुरूवार को एक महत्त्वपूर्ण समीक्षा बैठक की, जिसमें सीएसआर (CSR) के कामों को रांची जिले में कैसे बड़े पैमाने पर लागू कराया जाय और रुके हुए कामों को कैसे फ़ास्ट ट्रैक पर लाया जाय इसकी जिले के आला अधिकारियों के साथ बैठक कर समीक्षा की गयी। इस बैठक में रांची के उपायुक्त छवि रंजन ने जिले के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को और बेहतर करने पर जोर दिया।

रांची में सीएसआर के तहत प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को सशक्त बनाने पर जोर

सीएसआर यानि कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी (Corporate Social Responsibility) फंड का इस्तेमाल कर रांची जिले में बड़े पैमाने पर विकास के काम किये जा रहें है। बैठक में डीसी छवि रंजन सीएसआर फंड के उपयोग से तमाम विकास कार्यों के लिए तैयार की गयी योजना पर विस्तार से चर्चा करते हुए अब तक की वर्क रिपोर्ट की जानकारी ली। सीएसआर परियोजनाओं जैसे एएनसी किट, एम्बुलेंस, स्वास्थ्य, शिक्षा, सामाजिक कल्याण आदि की विस्तार से जानकारी लेते हुए उन्होंने पूरी की जा चुकी परियोजनाओं की उपयोगिता प्रमाण लेने का निदेश भी दिया।

सीएसआर से रांची में आंगनबाड़ी केंद्रों को माॅडल आंगनबाड़ी बनाये जा रहें हैं

डीसी छवि रंजन ने जिले के ऐसे प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों की सूची तैयार करने को कहा है जहां सीएसआर फंड के इस्तेमाल से प्रसव की सुविधा शुरू की जा सके। साथ ही उन्होंने स्वास्थ्य केंद्रों पर अन्य सुविधा उपलब्ध कराने के लिए समन्वय स्थापित करने का भी निर्देश दिया। आंगनबाड़ी केन्द्रों को मॉडल केंद्रों में विकसित किये जाने की परियोजना की समीक्षा करते हुए उपायुक्त ने बिजली, पानी की व्यवस्था एवं अन्य सुविधाओं उपलब्ध कराने का भी निर्देश दिया।

कस्तूरबा गांधी बालिका आवासीय विद्यालयों का होगा सर्वे, ताकि सीएसआर फंड का हो सके इस्तेमाल

डीसी छवि रंजन ने सीएसआर फंड की बैठक में कहा कि रांची जिला अंतर्गत संचालित कस्तूरबा विद्यालयों में जरूरी सुविधाओं की जानकारी एकत्र कर प्रस्ताव बनाकर कार्य करें, ताकि विद्यालयों को और आकर्षक बनाया जा सके। साथ ही कल्याण विभाग के बोर्डिंग स्कूल की उपयोगिता के बारे में जानकारी दी। डीसी ने माइक्रो और ड्रिप एरिगेशन, पाॅली हाउस, कोल्ड स्टोरोज के साथ कृषि संबंधित प्रस्ताव को भी तैयार करने को कहा।

प्रस्तावों के बाद सीएसआर फंड का इस्तेमाल कर किया जायेगा विकास कार्य

गौरतलब है कि प्रस्तावों के बाद जल्द से जल्द सीएसआर करने वाली कॉर्पोरेट कंपनियों से संपर्क कर मिले फंड का उपयोग रांची जिला में पेयजल आपूर्ति, स्वास्थ्य सेवा, शिक्षा, महिला एवं बाल विकास, वृद्ध एवं दिव्यांगजनों को सुविधाएं, स्किल डेवलपमेंट, सैनिटेशन, इंफ्रास्ट्रक्चर, सिंचाई सहित ऊर्जा एवं वाटरशेड मैनेजमेंट के क्षेत्र में काम किया जायेगा।

एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट है रांची, सीएसआर से लगातार जिला प्रशासन कर रहा है काम

झारखण्ड का रांची जिला एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट है, एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट का संकल्पना पीएम नरेंद्र मोदी ने रखी थी और यह प्रोग्राम जनवरी 2018 में लॉन्च किया गया था। नीति आयोग द्वारा संचालित एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट कार्यक्रम का उद्देश्य देश के सबसे पिछड़े हुए जिलों में से विकास करना है। इसके लिए इन जिलों में पांच प्रमुख बिन्दुओं पर कार्य किया जा रहा है – स्वास्थ्य व पोषण, शिक्षा, वित्तीय समावेश, कौशल विकास, कृषि व जल संसाधन और अधोसंरचना। इस योजना की सहायता से पिछड़े जिलों में विकास के इन सूचकों को राष्ट्रीय स्तर के बराबर लाने का प्रयास किया जा रहा है। एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट होने के नाते सीएसआर की मदद से रांची के उपायुक्त कई विकास के कामों को अंजाम दे रहें हैं।