Home हिन्दी फ़ोरम सीएसआर – आत्महत्या ग्रस्त किसान परिवारों को मिलेगी गाय

सीएसआर – आत्महत्या ग्रस्त किसान परिवारों को मिलेगी गाय

52
0
SHARE
 
अब सीएसआर की मदद से गाय भी मिलेगी, ओएनजीसी अब अपने सीएसआर पहल से एक अनोखा इनिशिएटिव करने जा रही है। ओएनजीसी सीएसआर पहल के तहत महाराष्ट्र के उस्मानाबाद जिले की आठ तहसीलों में 93 आत्महत्या करने वाले किसानों के परिवार को गाय उपलब्ध कराएगी। दरअसल महाराष्ट्र का उस्मानाबाद जिला एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट की कैटेगरी में आता है। नीति आयोग ने उस्मानाबाद जिले को आकांशी जिला घोषित किया है। एस्पिरेशनल डिस्ट्रिक्ट वो जिले होते है जहां अन्य जिलों की तुलना में कम विकास हुए है।

ओएनजीसी अब सीएसआर से आत्महत्या ग्रस्त किसान परिवारों को देगी दुधारू गाय

उस्मानाबाद पिछड़ा जिला होने के नाते जिले में देश के तमाम कॉरपोरेट अपने CSR पहल यहां करते है। ONGC (Oil and Natural Gas Corporation Limited) ने भी अपने Corporate Social Responsibility पहल से आत्महत्या करने वाले किसानों के परिवार को गाय उपलब्ध कराने का फैसला लिया है। एक किसान परिवार को दो दुधारू गाय दिए जायेंगे यानी कुल 186 गायों का वितरण किया जायेगा। ONGC अपने इस कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी पहल में अंदाजन एक करोड़ 23 लाख रुपये खर्च करेगी।

93 किसान परिवारों को मिलेंगी दो गाय, ONGC अपने सीएसआर से खर्च करेगी 1 करोड़ 23 लाख रुपये

महाराष्ट्र में किसान आत्महत्या एक जटिल समस्या है, और बात करें उस्मानाबाद की तो सबसे ज्यादा किसान उस्मानाबाद में मौत को गले लगाते है। कर्ज और खराब फसल की वजह से किसान हताश और निराश होकर आत्महत्या जैसे विकल्प को अपनाता है। इस समस्या से निजात पाने के लिए कॉरपोरेट की ये पहल उस्मानाबाद जिलों के किसानों में सकारात्मक बदलाव लाएगी। हम आपको बता दें कि गाय के साथ एक महीने का इन किसानों को पशु आहार भी दिया जायेगा। साथ ही इन पशुओं के कान में इलेक्ट्रॉनिक चिप भी इनस्टॉल किये जायेंगे ताकि पशुसंवर्धन विभाग इनकी जानकारी और ट्रैकिंग भी करती रहे।

ओएनजीसी और महाराष्ट्र सरकार की पशुसंवर्धन विभाग द्वारा प्रोजेक्ट लागू

ONGC और महाराष्ट्र सरकार की पशुसंवर्धन विभाग द्वारा ये प्रोजेक्ट लागू किया जायेगा। किसान आत्महत्या ग्रस्त परिवारों को आर्थिक स्वावलंबी बनाने व दुग्ध व्यवसाय कर जीविका और कमाई का जरिया देने के लिए ये सराहनीय पहल है।