Home हिन्दी फ़ोरम योगी ने कैंसर के लिए किया पीईटी सीटी स्कैनर का उद्घाटन

योगी ने कैंसर के लिए किया पीईटी सीटी स्कैनर का उद्घाटन

376
0
SHARE
सीएसआर से सीएम योगी ने कैंसर मरीजों के लिए किया पीईटी सीटी स्कैनर मशीन का उद्घाटन
 
उत्तर प्रदेश में कैंसर (Cancer Treatment in Uttar Pradesh) के इलाज के लिए सुविधाओं को बढ़ाने पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रोज दिया है। CM Yogi Adityanath ने मथुरा के रामकृष्ण मिशन चैरिटेबल अस्पताल में कैंसर मरीजों के लिए पीईटी सीटी स्कैनर मशीन (PET CT Scan for Cancer) का उद्घाटन किया। गौरतलब है कि देश में कैंसर के मामले लगातार बढ़ रहें हैं तुलनात्मक कैंसर के इलाज के लिए उस स्तर से स्वास्थ्य सुविधाओं को भी बढ़ाना होगा। उत्तर प्रदेश सरकार कैंसर के इलाज की दिशा में तेजी से काम कर रही है तो वहीं चेरिटेबल ट्रस्ट व फाइनेंसियल और कॉरपोरेट हाउसेस भी इस दिशा में प्रयासरत है।

कैंसर इलाज के लिए कोटक महिंद्रा ग्रुप के सीएसआर से मिला मथुरा को पीईटी सीटी स्कैनर मशीन

मुख्यमंत्री द्वारा उद्घाटन किया गया पीईटी मशीन को कोटक महिंद्रा ग्रुप (Kotak Mahindra Group CSR) ने अपने सीएसआर फंड (CSR Funds) से दिया है। जिस पीईटी सीटी स्कैनर PET CT Scanner को यहां उपलब्ध कराया गया है, वो सुविधा मथुरा और आसपास के जिलों में उपलब्ध नहीं है, इससे गरीब मरीजों को सबसे ज्यादा फायदा मिलेगा। साथ ही कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी की ये पहल आम आदमी के लिए बेहतरीन स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने की दिशा में एक सकारात्मक परिवर्तन बताया जा रहा है।

आज यूपी के हर जिले में है आईसीयू की सुविधा, सुदूर गांव में मिल रही टेली कंसल्टेंसी की सुविधा

Health in UP पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आज स्वास्थ्य के क्षेत्र में बहुत परिवर्तन हुआ है। पहले कोई गरीब व्यक्ति कैंसर, हार्ट, किडनी रोग या किसी और गंभीर बीमारी से पीड़ित होता था तो उसके लिए उपचार कराना बहुत कठिन होता था। मगर प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजना (CM Jan Arogya Yojana) के तहत आयुष्मान कार्ड (Ayushman Card for Health) के जरिए आज गरीब व्यक्ति को पांच लाख रुपए का स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराया जा रहा है। उत्तर प्रदेश में 3400 करोड़ की राशि आयुष्मान भारत के माध्यम से गरीबों को इलाज के लिए प्रदान की गई है। आज उत्तर प्रदेश में 75 में से 72 जिलों में फ्री डायलिसिस की सुविधा है। पहले केवल 36 जिलों में आईसीयू बेड की सुविधा थी आज प्रदेश के हर जिला अस्पताल में आईसीयू की सुविधा है।