Home हिन्दी फ़ोरम सीएसआर से बनेगा गंगा घाट, गांवों में होगा वेस्ट मैनेजमेंट  

सीएसआर से बनेगा गंगा घाट, गांवों में होगा वेस्ट मैनेजमेंट  

118
0
SHARE
सीएसआर से बनेगा गंगा घाट, गांवों में होगा वेस्ट मैनेजमेंट
 
सीएसआर यानी कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी की मदद से देश भर में विकास के कई पहल किये जा रहे है। सीएसआर के इन पहलों से समाज का हर एक तबका लाभांवित हो रहा है। छोटे से छोटे गांवों की जरूरतों को भले सरकारी नज़र नज़रअंदाज़ कर दे, लेकिन Corporate Social Responsibility Fund की हर संभव मदद समाज के आखिरी तबके तक पहुंच रही है और समाज में सकरात्मक बदलाव देखने को मिल रहा है। जहां सरकारी फंड और योजनाएं फेल हो जा रही है वहां देश के कॉरपोरेट्स पहुंचकर समाज को मदद कर रहें हैं।

नमामि गंगे प्रोजेक्ट के तहत बनेगा गंगा घाट, एसबीआई देगी 3.21 करोड़

देश भर में सीएसआर के तहत तमाम योजनाएं चल रही है। देश के विकास में CSR अपनी महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा कर रही है। उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर के कर्णवास में गंगा स्नान को आने वाले श्रद्धालुओं के लिए एक अच्छी खबर है। अब यहां पर पक्का गंगाघाट बनेगा। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया सीएसआर के तहत 3.21 करोड़ से अधिक की राशि खर्च कर रहा है। नमामि गंगे प्रोजेक्ट के तहत बनने वाला गंगाघाट 16 महीने में बनकर तैयार हो जाएगा। पक्का घाट बनने से यहां गंगा स्नान को आने वाले लाखों श्रद्धालुओं को लाभ मिलेगा।
कर्णवास में पक्का गंगा घाट न होने के कारण श्रद्धालुओं को परेशानी होती थी, लेकिन अब गंगाघाट बनने से यह परेशानी दूर हो जाएगी। कर्णवास में बनने वाला गंगाघाट 25 मीटर का होगा। इसके साथ इस घाट पर कई तरह की श्रद्धालुओं को सुविधाएं भी उपलब्ध करवाई जाएंगी। गंगा घाट के निर्माण के साथ ही स्वच्छ पेयजल, शौचालय, चेंजिंग रूम आदि का निर्माण किया जाएगा। जिले की सीमा से गुजर रही गंगा नदी के किनारे बसा कर्णवास का नाम राजा कर्ण के नाम पर पड़ा था। जहां राजा कर्ण गंगा स्नान और पूजा-पाठ पूरी करने के बाद सोना दान किया करते थे।

भोपाल में होगा सीएसआर से वेस्ट मैनेजमेंट

वहीं मध्यप्रदेश के भोपाल में पंचायतों में सीएसआर सहित अन्य फंडों का उपयोग कर वेस्ट मैनेजमेंट (Waste Management) के लिए उपाय योजना बनाने को लेकर पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने हरी झंडी दे दी है। उन्होंने कहा कि गांवों के सॉलिड और प्लास्टिक कचरे का निस्तारण बहुत जरुरी है ताकि ग्रामीण पर्यावरण को कोई नुकसान ना हो। इसके लिए सीएसआर की भी मदद लेने और जन समुदाय की भागीदारी भी सुनिश्चित की जाए ऐसे निर्देश मंत्री सिसोदिया ने दिया।

सीएसआर से सक्षम हो रही है हरियाणा पुलिस

हरियाणा पुलिस को और सक्षम बनाने के लिए ऑर्गेनिक्स ग्लोबस स्पिरिट लिमिटेड समालखा ने पानीपत पुलिस को एक बोलेरो गाड़ी डोनेट की है। ये गाड़ी सीएसआर के तहत पानीपत पुलिस को दी गयी है। उप-पुलिस अधीक्षक मुख्यालय सतीश वत्स ने सीएसआर के इस पहल पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह एक अच्छी पहल है, पुलिस विभाग के बेड़े मे एक और गाड़ी शामिल होने से पुलिस विभाग को अपराधों को रोकने मे काफी सहायता मिलेगी।