Home हिन्दी फ़ोरम Hindi Diwas – विश्व और राष्ट्रीय हिंदी दिवस में ये है अंतर

Hindi Diwas – विश्व और राष्ट्रीय हिंदी दिवस में ये है अंतर

5
0
SHARE
हिंदी दिवस
 
आज हम हिंदी दिवस मना रहे हैं। हिंदी, वह भाषा जो विश्व में सबसे ज्यादा बोली जाने वाली भाषाओं में से एक है। हिंदी भाषा हमारी अस्मिता है, सम्मान है, हमारा अभिमान है, संस्कारों की भाषा है। ये भाषा केवल विचार अभिव्यक्ति का माध्यम न होकर शिक्षा, सेवा व सद्भाव की भाषा है। हिंदी हमारी राज भाषा है। और इसी ख़ास दिन को सेलिब्रेट करने के लिए आज 14 सितंबर को हम हिंदी दिवस मना रहे हैं।
आज के समय में अंग्रेजी भाषा को ज्यादा अहमियत दिया जाता है। इसके बढ़ते चलन और हिंदी की अनदेखी को रोकने के लिए हर साल 14 सितंबर को देशभर में हिंदी दिवस और 10 जनवरी को दुनियाभर में World Hindi Day मनाया जाता है। ये दोनों ही दिवस हिंदी प्रेमियों के लिए बेहद खास होता है। लेकिन विश्व हिंदी दिवस और राष्ट्रीय हिंदी दिवस (National Hindi Day) में अंतर है। लोग अक्सर विश्व हिंदी दिवस और राष्ट्रीय हिंदी दिवस को लेकर असमंजस की स्थिति में पड़ जाते हैं और इसके बीच अंतर ना पता होने के कारण इसे एक ही समझ लेते हैं। ऐसे में इस ख़ास मौके पर आईये जानते है दोनों में फर्क क्या है।

जानते है कब और क्यों मनाया जाता है Hindi Diwas

देश जब साल 1947 में अंग्रेजों की हुकूमत से आजाद हुआ था, तो भाषा को लेकर बड़ा सवाल खड़ा हो गया था। सवाल यह था कि भारत की राजभाषा कौन सी होगी। ये सवाल बेहद अहम था इसलिए काफी विचार विमर्श करने के बाद हिंदी को नए राष्ट्र की आधिकारिक भाषा के रूप में चुना गया। हिंदी को सबसे पहले 14 सितंबर, 1949 के दिन राजभाषा का दर्जा मिला। संविधान सभा ने देवनागरी लिपि में लिखी हिंदी को राष्ट्र की आधिकारिक भाषा के तौर पर स्वीकार किया। 14 सितंबर, 1949 के दिन हिंदी को राजभाषा का दर्जा मिला। तब से लेकर 14 सितंबर के इस दिन के महत्व को देखते हुए हर साल हिंदी दिवस मनाया जाता है।

जानते है कब और क्यों मनाया जाता है विश्व हिंदी दिवस

World Hindi Diwas का उद्देश्य वैश्विक स्तर पर Hindi को बढ़ावा देना है। 10 जनवरी को हर साल विश्व हिंदी दिवस (International Hindi Day) के रूप में मनाया जाता है। साल 2006 से इसे हर साल मनाए जाने की शुरुआत हुई थी। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने वैश्विक स्तर पर हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिए विश्व हिंदी दिवस मनाने की घोषणा की थी। हालांकि इतिहास में पहली बार में 10 जनवरी 1975 को नागपुर में हिंदी डे के लिए सम्मेलन का आयोजन किया गया था। लेकिन उस वक्त इसे लेकर कोई आधिकारिक सूचना जारी नहीं की गई थी।

इंटरनेट पर डिजिटल दुनिया में Hindi सबसे बड़ी भाषा है

अगर हम आकड़ों में हिंदी की बात करें तो 260 से ज्यादा विदेशी विश्वविद्यालयों में हिंदी पढ़ाई जाती है। 64 करोड़ लोगों की हिंदी मातृभाषा है, 24 करोड़ लेगों की दूसरी भाषा है। 42 करोड़ लोगों की तीसरी और चौथी भाषा है हिंदी। इस धरती पर 1 अरब 30 करोड़ लोग हिंदी बोलने और समझने में सक्षम है। गूगल सर्वेक्षण बताता है कि इंटरनेट पर डिजिटल दुनिया में हिंदी सबसे बड़ी भाषा है। एक वक़्त था कि अंग्रेजी को लोग स्टेटस सिंबल मानते थे। लेकिन अब हिंदी बड़े बड़े मंचों पर बड़े शान से बोली जाती है। देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिंदी ख्याति तो अंतरराष्ट्रीय मंच पर भी की है। 93 फीसदी युवा यूट्यूब पर हिंदी में कंटेंट देखता है। इंटरनेट पर देश का युवा वर्ग 94 फीसदी हिंदी कंटेंट सर्च करता है और उसे देखता है।