Home WOMEN & CHILD WELFARE वहशी व्हाट्सऐप

वहशी व्हाट्सऐप

40
0
SHARE
 
   

संचार क्रांति में व्हाट्सऐप एक ऐसा जरिया हो गया है जिसके बिना कम्युनिकेशन आजकल असंभव सा हैव्हाट्सऐप पर वर्चुवल दुनिया शुरू होती है और वही ख़त्म होती नज़र आ रही हैव्हाट्सऐप आज दुनिया का सबसे लोकप्रिय मोबाइल ऐप बन गया हैइसका क्रेज लोगो पर इस कदर चढ़ा है कि करोड़ों लोगो के दिन की शुरवात व्हाट्सऐप के गुड मॉर्निग मैसेज से शुरू होती है और गुड नाईट से दिन खत्म होता हैव्हाट्सऐप के जरिये सोशल मीडिया पर चींजे इस तरह से वायरल हो रही है कि व्हाट्सऐप ना सिर्फ वहशी हो गया है बल्कि व्हाट्सऐप अब जान भी लेने लगा हैताज़ा उदहारण महाराष्ट्र के धुले जिले है से जहाँ एक ऐसी वारदात हुई है कि लोग स्तब्ध हैसोचने पर मजबूर है कि क्या व्हाट्सऐप इस तरह लोगो के दिलोदिमाग पर हावी हो गया है कि वायरल मैसेज की सच्चाई बिना जांचेपरखे आँखें बंद उस वायरल मैसेज से विश्वास करके किसी की जान ले ले। ऐसा ही हुआ है महाराष्ट्र के धुले जिले में जहाँ रविवार को हजारों लोगों की भीड़ ने बच्चा चोरी के शक में 5 लोगों को पीट-पीटकर मार डाला। मारे गए पांचों लोग घुमंतू कबीले के थे जो व्हाट्सऐप और सोशल मीडिया पर फैली अफवाह के शिकार बन गए। भीड़ साप्‍ताहिक बाजार में बच्‍चा चोरी करने वालों की तलाश कर रही थीतभी उन्‍होंने एक व्‍यक्ति को बच्‍ची से बात करते देखा। भीड़ ने उस व्‍यक्ति से कई सवाल पूछे और संतोषजनक जवाब नहीं देने पर उसे पीट-पीटकर मार डाला। इस दौरान पुलिस ने उन्‍हें बचाने का प्रयास किया लेकिन भीड़ के आगे उसकी एक न चली।    

महाराष्ट्र के धुले के बाद महाराष्ट्र के ही मालेगांव के आजाद नगर इलाके में भी लोगों पर बच्चा चोरी करने वाले गिरोह के सदस्य होने के संदेह में लोगों ने पत्थर बरसाएहालांकिजानकारी मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस दंपत्ति को पत्थर फेंक रहे लोगों के चंगुल से बचाने में कामयाब रहीपुलिस ने भीड़ को रोकने की कोशिश कीलेकिन इससे पहले कि पुलिस भीड़ को रोकतीभीड़ बेकाबू हो चुकी थीपत्थर मार रहे लोग नारे लगा रहे थे कि बच्चा चोरी गिरोह को सबक मिलना चाहिएपुलिस के आग्रह पर भी भीड़ नहीं मानी और पत्थर बरसाते रहे। परेशान होकर पुलिस ने अतिरिक्त पुलिस बल को बुलायाजिसके बाद सभी लोगों को पुलिस ने भीड़ के चंगुल से रेस्क्यू कर लिया। पांचों लोगों के बचाव में पहुंची पुलिस टीम पर भी लोगों ने पथराव किया। इससे पहले हैदराबाद के पहाड़ी शरीफ और गुजरात के अहमदाबाद में भी बच्चा चोरी की अफवाहों के कारण पीट पीटकर हत्या की घटना को अंजाम दिया गया है। सोशल मीडिया पर फर्जी तरीके से हुई वायरल ख़बरों में सिर्फ महाराष्ट्र ही  आगे नहीं है। चेन्नई में भी लोगों ने बच्चा चोरी के शक में दो युवकों की बेरहमी से पिटाई कर दीहालांकियहां भी मालेगांव की तरह मौके पर पहुंच पुलिस ने लोगों से युवकों को बचा लिया। रविवार को महाराष्ट्र के धुले में भीड़ ने पीट-पीटकर पांच लोगों की जान लेने के मामले में पुलिस ने 23 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। महाराष्ट्र सरकार अब इस मामले में लोगों से ऐसी अफवाहों से बचने की अपील की हैऔर कहा कि सोशल मीडिया पर प्रसारित अफवाहों पर ध्यान नहीं दें।

हम आपको बता दें कि पिछले कुछ महीनों में देश के 11 राज्‍यों में अब तक 27 लोगों की भीड़ ने हत्‍या कर दी है। मॉब लिचिंग की ये घटनाएं अगरतलाअहमदाबादरायपुरमाल्‍दाऔरंगाबादगुवाहाटी और हैदराबाद में हुई हैं। मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि इस तरह की घटनाएं यह दर्शाती हैं कि समाज उबल रहा है। सोशल मीडिया के जरिए लगातार ऐसी सूचनाएं शेयर की जा रही हैं जिससे लोगों में अफवाह फैल रही है और गुस्‍सा बढ़ रहा है। दरअसलपिछले एक महीने से बच्चाचोर गिरोह की अफवाह व्हाट्सऐप और सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इस तरह के वायरल मैसेज बिना सोचे समझे और बिना जाँच पड़ताल किये फॉरवर्ड किया जाता है। बच्चाचोर गिरोह के बारे में वायरल मैसेज धुले के लोगों के पास भी थाजिसको लेकर शायद वहां चर्चा भी हुई होगी। गांववाले हर अनजान चेहरे को शक की नजर से देख रहे थेधुले में भी ऐसे शक से महापाप हुआ जिसने निर्दोष लोगों की बेरहमी से जान ले ली। ऐसी घटनाएं दुनिया के सबसे बड़े और बुलंद लोकतंत्र पर काला धब्बा की तरह हैंजहां सिर्फ शक होने पर भीड़तंत्र निर्दोष लोगों की जान ले लेता है।